करूण नायर: चेन्नई की पारी से पहले में नर्वस था

no photo
 |

© BCCI

करूण नायर: चेन्नई की पारी से पहले में नर्वस था

करूण नायर ने ये खुलासा किया है कि इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट में 303 रनों की पारी खेलने से पहले वो थोड़ा घबराए हुए थे लेकिन उन्होंने इस दबाव का आनंद उठाया। 25 वर्षीय इस खिलाड़ी ने कोहली की तारीफ करते हुए बताया कि वो हमेशा खुद को उदाहरण के तौर पर पेश करते हैं।

क्रिकबज़ को दिए इंटरव्यू में नायर ने कहा, ‘‘मैं ये बात मानता हूं कि चेन्नई में अपनी पारी का आगाज़ करते समय मैने थोड़े दबाव का अनुभव किया था। लेकिन ये दबाव मेरे लिए अच्छा था। इस तरह की स्थिति अच्छी है क्योंकि मैं दबाव झेल सकता हूं और टीम की जरूरतों पर फोकस कर सकता हूं। मैं कोहली के जाने के बाद मैदान पर आया और उस वक्त मैं टीम की जरूरत के बारे में सोच रहा था।’’

केएल राहुल के 199 रनों पर आउट हो जाने के बाद भारतीय प्रशंसक काफी मायूस हो गए थे लेकिन अपनी टीम के लिए तिहरा शतक लगाने वाले 25 वर्षीय इस खिलाड़ी ने उन्हें जश्न मनाने का मौका दे दिया।

जब उनसे पूछा गया की उन्होंने अपनी पारी की गति को कैसे बढ़ाया तो कर्नाटक के इस खिलाड़ी ने बताया कि जब उन्होंने 30 रन बना लिए तब उन्होंने अपने करियर के पहले शतक को पूरा करने का मन बनाया और उन्होंने अपना नेचुरल खेल खेलते हुए ऐसा किया। इस युवा खिलाड़ी ने बताया की उनकी टीम पहले ये निर्णय कर चुकी थी कि इंग्लैंड के खिलाफ डे 4 में कितने ओवर खेलने है, पर वो कोहली एंड कंपनी की शुक्रगुजार है जिन्होंने उसे तिहरा शतक लगाने का मौका दिया।

नायर ने कहा, ‘‘सबसे अहम था कि मैं 20 और 30 रन बनाउं। मैं इस तरीके से अपना पहला शतक हासिल करना चाहता था। यही दबाव की वजह हो सकती है। एक बार जब मैंने 100 रन पूरे कर लिए तब मैं बड़े स्कोर के लिए बढ़ा। जाहिर है पहले मकाम को हासिल करते समय मैं थोड़ा नर्वस हो गया था।’’

‘‘एक बार जब मैं उस पड़ाव से आगे बढ़ गया तब मैंने अपना प्राकृतिक खेल खेलना शुरू किया, मैं बिना दबाव के खेल रहा था। उस वक्त मेरा लक्ष्य इंग्लैंड के कुल स्कोर से आगे बढ़ना था और साझेदारी को मज़बूत करना था। जब मैंने एक बार लय हासिल कर ली तब रन भी खुद-ब-खुद बनने लग गए।’’

‘‘जब मैंने 200 रन बना लिए तब हमने एक सीमित ओवर तय कर लिए थे क्योंकि हम उस शाम इंग्लैंड को बल्लेबाजी देना चाहते थे। उन ओवर के खत्म होने से पहले मैं 280 के स्कोर तक पहुंच गया। उन्होंने इतनी उदारता दिखाई की मुझे अपने 300 रन पूरे करने लिए आगे खेलने की अनुमति दे दी। मैं विराट और टीम मैनेजमेंट का इस मौके पर धैर्य दिखाने के लिए शुक्रिया अदा करता हूं।’’

जोधपुर में जन्मे इस बल्लेबाज ने विराट कोहली की तारीफ करते हुए बताया कि भारतीय कप्तान हमेशा टीम की अगुवाई के लिए मौजूद रहते हैं और जो दूसरों को भी उनका अनुसरण करने की प्रेरणा देते हैं। करियर के कठिन समय में साथ देने वाले राहुल द्रविड़ और अनिल कुंबले का जिक्र भी उन्होंने किया।

नायर ने कहा, ‘‘उनकी तरह कप्तान मिलना बहुत जरूरी है। एक ऐसा शख्स जो आपको अपने जैसा करने के लिए प्रेरणा देता है या आपको इसलिए प्रेरित करता है क्योंकि वो आपके लिए बहुत खुश है। जब कप्तान खुद आगे बढ़कर नेतृत्व करे और सकारात्मकता रखे, वो टीम को एकजुट करने में अहम रोल अदा करता है। ये विराट की बेहतरीन बात है, वो उदाहरण बनकर टीम का नेतृत्व करते हैं।’’

‘‘जब मैं राजस्थान राॅयल्स टीम में शामिल हुआ था तब से राहुल सर मेरे लिए हमेशा उपलब्ध रहे। उन्होंने मेरे कठिन वक्त में मेरा साथ दिया और मुझे बाहर निकलकर खुद को व्यक्त करने के लिए उकसाया। जब आप भारतीय टीम में जाते हैं तब आप अलग ही स्थिति में होते हैं, तब आप अपने लिए जगह तलाशते हैं लेकिन अनिल सर के होने से मुझे काफी अच्छा महसूस हुआ। मैं उनसे लंबे समय से परिचित हूं इसलिए इस वजह से भी मुझे मदद मिली। वो मुझे लगातार कहते रहे कि मैं कर सकता हूं और एक बड़ी उपलब्धि हासिल कर सकता हूं। इससे मुझे आत्मविश्वास मिला।’’

RCB vs KXIP - Who will be the winning team?

Predict IPL Matches NOW! Click here to download Nostra Pro & get ₹20 Joining Bonus!

Win cash daily by predicting the right result on Nostragamus. Click here to download the game on Android! To know more, visit Nostragamus.in

SHOW COMMENTS