दिल्ली डेयरडेविल्स के मज़बूत टीम में शामिल हुए ज़हीर खान, ज़ाहिर की ख़ुशी

no photo
 |

दिल्ली डेयरडेविल्स के मज़बूत टीम में शामिल हुए ज़हीर खान, ज़ाहिर की ख़ुशी

ज़हीर खान ने भले ही पिछले कुछ सालों में एक भी प्रतियोगितात्मक क्रिकेट में भाग न लिया हो, लेकिन बाएं हाथ के गेंदबाज़ का मानना है कि वह ज़रुरत के हिसाब से खुद को ढाल सकते हैं। ज़हीर ने दिल्ली के युवा बल्लेबाजों की तारीफ की जो क्विंटन डी कॉक और जेपी डुमिनी की गैर मौजूदगी में ज़िम्मेदारी उठा रहे हैं।

वैसे तो लगभग एक साल हो चुका ज़हीर खान को क्रिकेट से अलग रहते हुए, लेकिन उनकी माने तो वह दिल्ली डेयरडेविल्स की गति के साथ आगे बढ़ने में सक्षम होंगे, अगर उनको मोहम्मद शमी, कगिसो रबाडा, पैट कमिंस और हरफनमौला क्रिस मोरी, एंजेलो मैथ्यूज और कार्लोस ब्रेथवेट जैसे सह खिलाड़ी मिले तो।

"एक भी मैच बिना खेले सीधे IPL में प्रदर्शन करना थोड़ा कठिन है। मैं इसके एक चुनौती के रूप में लेता हूँ। मैं अपने प्रशिक्षण और फिजियो के साथ की गयी चर्चा के आधार पर अपने रूटीन पर अमल करूँगा। तरीका एक ही रहेगा। मैंने दिसम्बर से अभ्यास करना शुरू किया था और धीरे धीरे मैंने वापसी की और अब मैं IPL में खेलने के लिए तैयार हूँ। जब भी मैं मैदान में उतरता हूँ, मुझमें ऊर्जा आ जाती है। मेरे करियर के इस मोड़ पर यह क्रिकेट का सही खुराक है जो मुझे मिल रहा है,"Cricbuzz के अनुसार, ज़हीर ने कहा।

"मेरी टीम में बेहतरीन तेज़ गेंदबाज़ हैं जो मेरा काम आसान कर देंगे। मैं मुख्य भूमिका में नहीं हूँ, बस सहायक के तौर पर टीम में शामिल हूँ। मैं इसी भूमिका को निभाना चाहता हूँ। मैं ऐसे ही अपना योगदान देना चाहता हूँ।"

ज़हीर ने कहा खेल में ज्यादा दिन तक बने रहने के लिए सबसे ज्यादा ज़रूरी है कार्यभार को संभालना। "जब मैं खेलता था, तब मैं अधिक खेलना चाहता था। जब आप एक लय में होते हैं, तब आप उसे बनाए रख सकते हैं। आप अभ्यास करते हुए कार्यभार संभाल सकते हैं," उन्होंने कहा।

"अगर खिलाड़ी उमेश जैसा हो, जिसने सभी सत्र खेले हैं, उन्हें यह अंदाजा भी नहीं होता कि 20 ओवर ख़त्म हो चुके हैं। स्वस्थ गेंदबाज़ की यही निशानी होती है। टेस्ट और अलग अलग प्रकार के क्रिकेट खेलने वाले गेंदबाजों के लिए स्वस्थ रहना आसान होता है। जितना आप गेंदबाजी करते हैं, उतने ही स्वस्थ होते हैं। मैंने हमेशा से कहा है कि मैच प्रैक्टिस सबसे अच्छी प्रैक्टिस है।"

दिल्ली की बल्लेबाजी, गेंदबाजी जितनी मज़बूत नहीं है, और इस वक़्त को किसी वजह से दक्षिण अफ्रीका के जेपी डुमिनी और क्विंटन डी कॉक भी टीम में शामिल नहीं हैं। "हमें हमेशा से युवा खिलाड़ी और उनकी प्रतिभा पर भरोसा रहा है। अगर आप पिछले सत्र में इस टीम को देखेंगे तो, हमारे टीम में करुण नायर जैसे खिलाड़ी थे जिन्होंने टेस्ट में तिहरा शतक लगाया था। श्रेयस ayyar भी टेस्ट टीम का हिस्सा रहे हैं। यह युवा सिर्फ नाम के युवा खिलाड़ी है, देखा जाए तो इन्हें भी काफी अनुभव है," ज़हीर ने कहा।

"इस साल यही DD की ताक़त है। हमारे पास एक भारतीय बल्लेबाजी बल है जो ज्यादा अनुभवी हैं और अपनी भूमिकाओं को समझते हैं। टीम परिपूर्ण है। भले ही इसमें जेपी और क्विंटन जैसे खिलाड़ियों की कमी हो। अगर आप सभी टीमों को देखे, तो आपको ऐसे कई खिलाड़ी मिल जायेंगे जो चोटिल होने और अपने दूसरे कार्यभार के कारण टीम में शामिल नहीं हो पा रहे हैं। हम ऐसी परिस्थितियों के लिए तैयार रहते हैं।"

SHOW COMMENTS