चोटिल केएल राहुल हो सकते हैं चैंपियंस ट्रॉफी की टीम से बाहर

no photo
 |

bcci

चोटिल केएल राहुल हो सकते हैं चैंपियंस ट्रॉफी की टीम से बाहर

केएल राहुल ने माना है कि उनके कंधे की चोट की वजह से जून में इंग्लैंड और वेल्स में होने वाले चैंपियंस ट्रॉफी में भाग लेने में वह शायद समर्थ नहीं हो पायेंगे। कर्नाटक के ओपनर को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट में चोट लगी थी और 10 अप्रैल को इंग्लैंड में सर्जरी करवाने के बाद, शनिवार को वह देश लौटे।

सर्जरी डॉ. लेनार्ड फंक ने किया था। वापसी के बाद, गुरुवार को राहुल कंधे पर स्लिंग के साथ, RCB टीम के होटल में पहुंचे। इस चोट की वजह से वह IPL 10 में भी हिस्सा नहीं ले पाएंगे।

पहले टेस्ट में चोटिल होने के बाद, राहुल ने बाकी की शृंखला बेहद दर्द में गुजारी लेकिन फिर भी सात पारियों में 393 रन बनाकर वह भारत के दूसरे सबसे अधिक स्कोर करने वाले खिलाड़ी बने।

"मुझे इसके लिए इंतज़ार करना होगा लेकिन संभावना कम ही है," ओपनर ने चैंपियंस ट्रॉफी के बारे में बात करते हुए cricbuzz से कहा।

चोट के बारे में बात करते हुए 25 वर्षीय राहुल ने कहा, "मेरा लेब्रम (कंधे के जोड़ से लगा हुआ एक गोलाकार पेशी) फट गया था। मैं कुछ ख़ास मुद्राएँ कर भी नहीं पाता था क्योंकि मेरा कन्धा इससे हट जाता। इसीलिए मैं कई शॉट नहीं खेल पाता था। मैं काफी सारी दवाई और पट्टियों की मदद से प्रदर्शन किया।

"यह एक सपोर्ट इंजरी हैं लेकिन डॉक्टर इस बात से हैरान थे कि यह मुझे बल्लेबाजी करते हुए कैसे हुआ। अधिकतर यह चोट उन खेलों में होता है जिसमें दोनों खिलाड़ी आपस में टकराते रहते हैं। फिजियो (पैट्रिक फारहार्ट) भी चकित थे क्योंकि ऐसा कोई बड़ा हादसा हुआ ही नहीं था। यह चोट मुझे तक लगी जब पुणे में जब मैंने एक बड़ा शॉट लगाया जो बाउंड्री के पार पहुंचा था। उसी वक़्त मेरा कंधा डिसलोकेट को गया। मैं वैसा ही शॉट लगाकर आउट भी हुआ था, और तब तक चोट और भी गंभीर हो गयी। इसके बाद, मैं कुछ भी नहीं कर पा रहा था।

"डॉक्टर ने कहा है कि अभी ठीक होने में 2-3 महीने लगेंगे। सबका शरीर अलग होता है, इसीलिए कहा नहीं जा सकता कि ठीक होने में कितना वक़्त लग जाए। यह पूरी तरह से मुझपर निर्भर है कि मैं अपनी चिकित्सा ठीक से कराता हूँ या नहीं। अभी के लिए, 2-3 हफ़्तों का आराम है, और उसके बाद मैं फिजियोथेरेपी करवाऊंगा। वहीं से मेरा इलाग शुरू होगा।"

यह पहली बार नहीं है, जब केएल राहुल आने अंतर्राष्ट्रीय करियर में चोटिल हुए हैं।

"अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखने वाले एक युवा खिलाड़ी के लिए यह काफी निराशाजनक बात है - अभी सिर्फ ढाई साल ही हुए हैं। मैं दो या तीन बार चोटिल हो चुका हूँ। ऐसे में मैं अक्सर यह सोचता हूँ कि मुझसे क्या गलती हुई है।

"मुझे नहीं पता कि मुझे इतनी चोटें क्यों आती है जबकि मैं अपने स्वास्थ को लेकर बेहद गंभीर हूँ और अपना ख्याल भी रखता हूँ। अब समय है कि मैं अपने प्रशिक्षण में बदलाव लाऊँ। एक खिलाड़ी के लिए चोट मुक्त होना ज़रूरी होता है। वापसी करने के बाद, स्वस्थ रहना और चोटों से दूर रहना मेरा लक्ष्य होगा।

SHOW COMMENTS