ब्रायन लारा क्रिकेट स्टेडियम का स्टैंड तेंदुलकर के नाम पर

no photo
 |

Getty Images

ब्रायन लारा क्रिकेट स्टेडियम का स्टैंड तेंदुलकर के नाम पर

नव-निर्मित ब्रायन लारा स्टेडियम का उत्तर-पश्चिमी स्टैंड सचिन तेंदुलकर के नाम पर होगा। हालांकि यह कदम ट्रिनीदाद और टोबागो क्रिकेट बोर्ड के कई सदस्यों को पसंद नहीं आया है, क्तोंकी उनके हिसाब से वेस्ट इंडीज में सचिन तेंदुलकर से दिग्गज और भी कई खिलाड़ी मौजूद हैं।

सचिन तेंदुलकर के नाम सर्वाधिक रन, सर्वाधिक शतक और सर्वाधिक टेस्ट मुकाबलों का रिकॉर्ड दर्ज है और कोई हैरानी की बात नहीं है अगर ब्रायन लारा के नाम पर बने एक स्टेडियम का स्टैंड उनके नाम पर बना हो। लारा और तेंदुलकर की तुलना उनके पूरे कार्यकाल के दौरान होता रहा। लारा के नाम एक पारी में सर्वाधिक रन (400) बनाने का रिकॉर्ड दर्ज है। यकीनन, दोनों बल्लेबाज़ के बीच सर्वश्रेष्ठ होने की दौड़ लगी रहती थी।  

हालांकि इस कदम पर ट्रिनीदाद और टोबागो बोर्ड के अध्यक्ष अज़ीम बसारथ ने सवाल खड़े किये हैं। उनका मानना है कि स्टैंड किसी ऐसे खिलाड़ी के नाम पर रखा जाना चाहिए जिन्होंने वेस्ट इंडियन क्रिकेट में अपना योगदान दिया है।

उन्होंने कहा, "भारत में इतने सारे मैदान हैं, मुझे तो याद नहीं कि उनमें से किसी स्टेडियम में भी कोई स्टैंड किसी वेस्ट इंडियन क्रिकेटर के नाम पर रखा गया है, तो ऐसे में हम तेंदुलकर के नाम पर स्टैंड का नाम क्यों रखे। मुझे लगा था कि इयन बिशप, लैरी गोमेस या गुस लोगी या फिर स्वर्गीय रांगी नानन के नाम पर स्टैंड बनेंगे, ना की तेंदुलकर।  

बसारथ ने कहा कि उन्हें इस बात की फ़िक्र थी कि TTCB से ब्रायन लारा स्टेडियम के निर्माण के लिए परामर्श नहीं किया गया और वह इस बात से भी हैरान है कि इस काम के लिए एक अलग समिति का गठन किया गया।

द स्पोर्ट्स कंपनी ऑफ़ T&T के अध्यक्ष, माइकल फिलिप्स TTCB के अध्यक्ष के खिलाफ नज़र आये।

उन्होंने कहा, "श्री तेंदुलकर के नाम पर स्टैंड निर्माण करने का हमारा निर्णय श्री. लारा के सुझाव पर लिया गया था। हमने स्टेडियम और अकादमी के उद्घाटन और प्रबंधन के लिए श्री. लारा को निर्णय लेने की प्रक्रिया में शामिल किया है।"  

फिलिप्स ने कहा कि यही वजह थी कि वे 13 मई 2017 को होने वाले स्टेडियम के उद्घाटन दिवस पर तेंदुलकर को खेलने के लिए मना पाए थे। कई स्थानीय, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी इस ख़ास मौके पर हिस्सा लेंगे।

उन्होंने बसारथ द्वारा अलग समिति के संगठन पर हैरानी जताने की बात पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कहा, "हम क्रिकेट को चलाना नहीं चाहते। सच्चाई यह है कि कोई भी संस्था क्रिकेट अकादमी शुरू कर सकता है और क्रिकेटरों को प्रशिक्षण दे सकता है, ऐसे में हम TTCB के कार्य में बाधा नहीं डाल रहे,"

उन्होंने आगे कहा, "मेरा कहना है कि अगर आप T&T के अन्य स्पोर्टिंग निकायों को देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि कार्य शैली में संतुलन की ज़रुरत है, क्योंकि कभी कभी वे कुछ खिलाड़ियों पर अधिक ध्यान देते हैं और कुछ पर कम। हम इस बात को सुनिश्चित करते हैं कि सभी खिलाड़ियों को आगे आने का मौका मिले।"

फिलिप्स ने कहा कि स्टेडियम के अन्दर डोर्म बन सकते हैं और इस योजना पर अभी काम चल रहा है। अकादमी में शामिल अकादमिक और क्रिकेट से जुड़े प्रोग्रामों का प्रचार स्थानीय एवं वैश्विक रूप से किया जायेगा। 

SHOW COMMENTS