ग्रेग चैपल ने नहीं किया मेरा करियर बर्बाद: इरफ़ान पठान

no photo
 |

Getty

ग्रेग चैपल ने नहीं किया मेरा करियर बर्बाद: इरफ़ान पठान

इरफ़ान पठान ने अपने करियर के बर्बाद होने के पीछे ग्रेग चैपल को दोषी माने जाने की धारणा को हमेशा के लिए ख़त्म कर दिया। भारतीय टीम में जगह खोने के पीछे चोटों को वजह बताने वाले पठान का मानना है कि IPL में वापसी करना एक नए सिरे से शुरुआत करने जैसा है।

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में इरफ़ान पठान का पतन और ग्रेग चैपल का भारतीय टीम के कोच बनने की घटनाएँ एक साथ हुई। कई जानकार चैपल के प्रोयोगों को इरफ़ान की गेंदबाजी के पतन की वजह बताते हैं लेकिन पठान का मानना है कि यह सच्चाई नहीं है।

"ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था। मैं जानका हूँ कई लोगों ने कहा है कि ग्रेग चैपल की वजह से मेरा करियर ख़राब हुआ है लेकिन ऐसा नहीं है। कोई किसी का करियर ख़राब नहीं कर सकता। आपको जो करना है, वो आपको करना है। आप अपने लिए खुद ज़िम्मेदार होते हैं," पठान ने RCB और गुजरात लायंस के बीच के मुकाबले से पहले हुए कांफ्रेंस में कहा।

"मैं टीम से इसलिए हटाया गया क्योंकि मैं चोटिल था। इसके बाद, वापसी करना मेरे लिए मुश्किल रहा। मैं इसके लिए किसी को ज़िम्मेदार नहीं मानता," उन्होंने कहा।

भारतीय टीम में कभी कभार जगह हासिल करने वाले इरफ़ान अपनी प्रतिभा नए सिरे से कभी दिखा ही नहीं पाए, जिसकी वजह से उन्हें IPL और घरेलू क्रिकेट तक सीमित रहना पड़ा। IPL 2017 के ऑक्शन में उन्हें किसी ने खरीदा भी नहीं था। हालांकि गुजरात लायंस ने उन्हें हैमस्ट्रिंग इंजरी से जूझ रहे ड्वेन ब्रावो की जगह पर टीम में शामिल कर लिया है।

देर से मिले इस मौके के बारे में बात करते हुए बरोदा के हरफनमौला ने कहा, "ऐसा लग रहा है मैं नए सिरे से शुरुआत कर रहा हूँ। अच्छा एहसास है। जब आप चुने नहीं जाते तो दुःख होता है। वैसे तो टूर्नामेंट काफी हद तक आगे बढ़ चूका है, लेकिन फिर भी इसमें शामिल होकर मुझे ख़ुशी है। उम्मीद है मुझे मौका मिलेगा और मैं अच्छा खेलूँगा।"

हरफनमौला ने हालांकि यह स्वीकार किया कि नीलामी में न बिकने के कारण वह दुखी थे लेकिन उन्होंने कहा कि इसकी वजह जानने की उन्होंने कोई कोशिश नहीं की।

"मुझे जवाब मिल जाता लेकिन और कुछ भी नहीं मिलता। इसमें कोई फायेदा नहीं है। एक बार आप देख लेते हैं कि क्या हुआ है, आपको नतीजे मिल जाते हैं, तो बस। आपको यह सुनिश्चित करना होता है कि आप बीती बातों को भुला दें। अगर आप सवाल पूछेंगे तो इससे आपका कोई भला नहीं होगा। इससे आपको कोई मदद नहीं मिलेगी। आपको स्थिति को समझना होगा और उससे जूझना होगा। कभी कभी लाइमलाइट से दूर जाना अच्छा होता है।

"खुशकिस्मती से मैं IPL से पहले इमरान (अपने बेटे) के साथ खेल रहा था। घर पर मुझे यह मौका मिलता ही। पिता बनने की ख़ुशी बहुत ख़ास होती है। अगर वह न होता तो समय काफी मुश्किल से कटता। यकीनन मेरे परिवार ने मेरा काफी साथ दिया। मेरे प्रशंसकों का भी शुक्रिया जिन्होंने मुझे दुआएं दी। इससे काफी मदद मिलती है।"

लेकिन इरफ़ान अब इस सत्र पर और अपनी नई टीम पर ध्यान देना चाहते हैं।

"जब आप पीछे देखते हैं तो आप सोचने लगते हैं लेकिन आपके पास जवाब नहीं होता। लेकिन जैसा की मैंने कहा जो बीत गयी सो बात गयी, और अब मैं अपने वर्तमान पर ध्यान दे रहा हूँ। इस वक़्त मैं गुजरात लायंस में शामिल होकर बहुत खुश हूँ।"

SHOW COMMENTS