ICC BCCI को अतिरिक्त USD 100 मिलियन देने को तैयार

no photo
 |

Getty

ICC BCCI को अतिरिक्त USD 100 मिलियन देने को तैयार

राजस्व नीति के लिए हुए वोट में BCCI के हारने के बावजूद, ICC अब भी भारतीय बोर्ड को USD 100 मिलियन अतिरिक्त देने के लिए तैयार है। ICC के अध्यक्ष शशांक मनोहर ने पहले USD 390 मिलियन देने की बात कही थी। इस प्रस्ताव को BCCI ने खारिज कर दिया था।

नए आर्थिक नियम के अनुसार, BCCI की हिस्सेदारी $570 मिलियन से $290 मिलियन हो जाएगी। लेकिन ICC ने इसे बढ़ाकर $400 मिलियन करने की बात कही थी, लेकिन खेल का सबसे धनि निकाय इस बात पर राज़ी नहीं हुआ। हालांकि, ICC के अध्यक्ष शशांक मनोहर अब भी $390 मिलियन का प्रस्ताव दे रहे हैं।

"हमने उन्हें (ICC) को कहा कि हम उनके प्रस्ताव को BCCI के जनरल बॉडी के सामने रखेंगे और फिर उन्हें बताएँगे। ICC के अधिकारयों ने कहा  है कि अगर हम इसपर राज़ी हो जाते हैं, तो मई में होने वाली बैठक में यह बदलाव लाया जायेगा," BCCI के वरिष्ठ अधिकारी ने गुरुवार को PTI से कहा।

लेकिन दुबई में मौजूद अधिकारियों को लगता है कि ICC को उन्हें कमसेकम $450 मिलियन देना चाहिए और इसके साथ प्रशासनीय ढाँचे में भी कोई बदलाव होना नहीं चाहिए।

"अमिताभ (चौधरी) ने सदस्यों से कहा है कि अगर आप $450 मिलियन तक दे सकते हैं, तो हम बोर्ड से बात करके उन्हें मनाने की कोशिश करेंगे। लेकिन शशांक मनोहर इस बात पर राज़ी नहीं हो रहे," अधिकारी ने कहा।

BCCI की घटती दिलचस्पी को देखते हुए ऐसा लगता है कि जून में इंग्लैंड में होने वाले चैंपियंस ट्रॉफी वह शायद हाथ खींच ले। हालांकि इस पर निर्णय आने वाले विशेष जनरल मीटिंग में ही लिया जायेगा जहां सभी सदस्य शामिल होंगे।

"इस समय हाथ खींच लेना एक विकल्प है। बीच का रास्ता यह है कि वह $450 मिलियन के लिए राज़ी हो जाए क्योंकि उन्होंने $390 मिलियन का प्रस्ताव रखा ही था। वहीं प्रशासनीय प्रणाली में भी कोई परिवर्तन न लाया जाए," अधिकारी ने कहा। "क्या स्टार स्पोर्ट्स उनके साथ वही सौदा करेंगे अगर टूर्नामेंट में विराट कोहली बनाम मोहम्मद आमिर या मिचेल स्टार्क बनाम एमएस धोनी का मुकाबला न हो?"

हालांकि, द टेलीग्राफ की खबर के अनुसार, इस फैसले से पहले कप्तान विराट कोहली और प्रमुख कोच अनिल कुंबले की राय भी ली जाएगी।

"सच्चाई यह है, कि खिलाड़ी भी इसका हिस्सा हैं और कप्तान और प्रमुख कोच इनके प्रतिनिधि हैं। हम खिलाड़ियों को सबसे बड़े हिस्सेदार मानते हैं, हम यकीनन उनकी राय का मान रखेंगे।

"2013 का चैंपियंस ट्रॉफी जीतने के कारण, भारत डिफेंडिंग चैंपियन भी है," सूत्र ने द टेलीग्राफ से कहा।

SHOW COMMENTS