विराट कोहली और केदार जाधव के प्रदर्शन तथा पुणे के ODI से बने शानदार रिकार्ड्स

no photo
 |

© BCCI

विराट कोहली और केदार जाधव के प्रदर्शन तथा पुणे के ODI से बने शानदार रिकार्ड्स

पुणे में हुए, इंग्लैंड के खिलाफ पहले ODI में भारत का प्रदर्शन बेहद शानदार रहा। मैच में 63/4 के स्कोर से उठकर, टीम ने सफलतापूर्वक 350 का लक्ष्य हासिल किया और शृंखला का पहला मुकाबला विजयी रही। केदार जाधव और कोहली की बेहतरीन साझेदारी के साथ टीम के बाकी सदस्यों ने भी इस मुकाबले से इतिहास रचा।

मुकाबले में बने कुछ प्रमुख रिकार्ड्स इस प्रकार हैं:

व्यक्तिगत रिकॉर्ड

2 –  केदार जाधव ने न. 6 पर बल्लेबाजी करते हुए दो शतक लगाए हैं, और इतिहास के ऐसे पहले भारतीय और विश्व के पांचवे खिलाड़ी बने हैं जिन्होंने न.6 के स्थान पर मैदान में आकर दो ODI शतक लगाए हैं।

7 – यह सातवीं बार है जब कोई भारतीय गेंदबाज़, एक मैच में पांच विकेट हासिल करने के बावजूद अगले मुकाबले के लिए टीम में शामिल नहीं हो सका। अमित मिश्रा के कार्यकाल में यह दूसरी बार है जब उन्होंने पांच विकेट चटकाए लेकिन अगले मैच की टीम में उन्हें जगह नहीं मिली।

9 – विराट कोहली अब अपने कार्यकाल में ODI में 9 दोहरा शतक (5 लक्ष्य का पीछा करते हुए) लगा चुके हैं। इस सूची में वह उपल थरंगा और रिकी पोंटिंग (दोनों ने 7 बार दोहरा शतक लगाया है) से आगे हैं।

17 – विराट कोहली ने दूसरी पारी में सर्वाधिक शतक लगाकर, सचिन तेंदुलकर की बराबरी की और इसके साथ ही उन्होंने 'लिटिल मास्टर' द्वारा, 14 सफल ODI रन चेज़ में शामिल होने का रिकॉर्ड भी तोड़ा।

29 – केदार जाधव ने 29 गेंदों में अर्धशतक लगाया जो इंग्लैंड के विरुद्ध भारत का दूसरा सबसे तेज़ अर्ध शतक है। 2011 में एमएस धोनी ने यह लक्ष्य महज़ 26 गेंदों में हासिल किया था।

33 – बेन स्टोक्स ने सिर्फ 33 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया। भारत के खिलाफ यह इंग्लैंड का भी दूसरा सबसे तेज़ अर्धशतक था। 1975 में, क्रिस ओल्ड ने 28 गेंदों में अर्धशतक लगाकर, यह रिकॉर्ड पहली बार अपने नाम किया था।

65 – 65 गेंदों में शतक लगाने के बाद, केदार जाधव का यह शतक भारत के ODI इतिहास में छठा सबसे शानदार शतक बन चुका है। इस सूची में विराट कोहली सबसे आगे हैं जिन्होंने 52 गेंदों में शतक पूरा किया था।

टीम रिकार्ड्स

3 – भारत अब तक तीसरी बार सफलतापूर्वक 350 से अधिक के लक्ष्य को ODI में पार कर चुका है। दक्षिण अफ्रीका एकमात्र ऐसी टीम है जिन्होंने यह काम दो बार किया है।

7 – 2015 के विश्व कप के बाद से, इंग्लैंड सात बार 350 से अधिक रन बनाने में कामयाब हुआ है। विश्व कप से पहले टीम केवल दो बार ऐसा कर पायी थी।

200 – कोहली-केदार के 200 रनों की शानदार साझेदारी 1997 में अजहरुद्दीन-जडेजा के 223 रनों की साझेदारी को पीछे नहीं छोड़ सकी। 1997 की यह साझेदारी भारतीय क्रिकेट के इतिहास में पाचवे या उससे नीचे के विकेटों पर बनी सबसे बड़ी साझेदारी है।

293 – चार विकेटों के नुक्सान के बाद सबसे अधिक रन बनाने के किसी टीम के रिकॉर्ड में भारत ने अपने ही पिछले स्कोर, 256 रनों को पीछे छोड़ा और सूची में दूसरे स्थान पर बना रहा। इस लिस्ट के अव्वल स्थान पर न्यू जीलैंड का नाम है जिन्होंने 2007 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ, 309 रन बनाये थें।

350 – इंग्लैंड ने भी भारत के खिलाफ अब तक के सबसे बड़े स्कोर को 12 रनों से पीछे छोड़ा। 2011 के विश्व कप में उन्होंने भारत के खिलाफ सर्वाधिक रन बनाए थे। बैंगलोर में हुए उस मैच में इंग्लैंड की टीम ने 338 का स्कोर खड़ा किया था।

351 – भारत का यह सफल रन चेज़, वैश्विक इतिहास का चौथा सबसे बड़ा और भारत का दूसरा सबसे बड़ा रन चेज़ है। जयपुर में हुए मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत ने 362 रनों के लक्ष्य को हासिल किया था।

2005 – इससे पहले, 2005 में, हैदराबाद में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ हुए मुकाबले में ऐसा हुआ था जब ओपनरों ने 10 रन से भी कम बनाए थे।

2009 – 2009 वह आखिरी बार था जब भारत ने किसी साल में हुआ अपना पहला मैच जीता था। 2009 में ऐसा होने के दो साल बाद क्या हुआ था, यह तो हम सबको पता है। उम्मीद है, कि इस बार इतिहास खुद को ज़रूर दोहराएगा।

Now play Cricket, Football, Tennis, Badminton and Kabaddi - all in one go.

Presenting Nostragamus, the first ever prediction game that covers all sports. Play Daily Sports challenge and win cash prizes daily!

Download the app for FREE and get Rs.20 joining BONUS. Join 30,000 other users who win cash by playing NostraGamus. Click here to download the app for FREE on android!

SHOW COMMENTS