भारत बनाम इंग्लैंड। युवराज और धोनी ने घुमाया समय का चक्र, इंग्लैंड को मिली शिकस्त

no photo
 |

© BCCI Media

भारत बनाम इंग्लैंड। युवराज और धोनी ने घुमाया समय का चक्र, इंग्लैंड को मिली शिकस्त

खराब शुरूआत के बाद युवराज सिंह और एमएस धोनी के 256 रन की साझेदारी ने भारत को बचाया, इसकी बदौलत टीम इंडिया कटक में हुए दूसरे एकदिवसीय मुकाबले में 381 का बड़ा स्कोर खड़ा कर पाई। जेसन राॅय और ईयोन मोर्गन के प्रयास के बावजूद इंग्लैंड ये मुकाबला 15 रनों से हार गई।

स्कोरकार्डः भारत 381/6, 50 ओवर में (युवराज सिंह 150(127), एमएस धोनी 134(122); क्रिस वोक्स 4/60, लिआम प्लंकेट 2/91) जीती बनाम इंग्लैंड 367/8, 50 ओवर में (इयोन मोर्गन 102(81), जेसन राॅय 82(73); आर अश्विन 3/65, बुमराह 2/81) 15 रनों से हारी

इंग्लैंड ने टाॅस जीता और इस बार उन्होंने पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। पिछले मुकाबले में खराब गेंदबाजी के बाद इस निर्णय को समझा जा सकता है।

भारत ने अपने लाइन-अप में एक बदलाव करते हुए पहले मुकाबलेे का हिस्सा रहे उमेश यादव के स्थान पर भुवनेश्वर कुमार को टीम में शामिल किया गया। वहीं दूसरी तरफ इंग्लैंड ने स्पिनर आदिल रशिद की जगह पर दाएं हाथ के तेज गेंदबाज लिआम प्लंकेट को मौका दिया।

क्रिस वोक्स ने भारत को पहुंचाया खराब स्थिति में

केएल राहुल ने पहली ही गेंद कवर की तरफ भेजी, जिसे देखकर लगा कि एक बार फिर पुणे वाला मुकाबला कटक में दोहराया जाएगा। लेकिन सतह पर दिख रही हरी घास ने क्रिस वोक्स को गेंदबाजी में मदद की और अचानक ही कटक एजबेस्टन की तरह दिखने लगा।

राहुल तीसरे ओवर में ही अपना विकेट गंवा कर वापस लौटे। मैदान पर कोहली आए और उन्होंने तीन गेंदो में से दो को बाउंड्री के लिए भेजा और मुकाबला फिर से सामान्य हो गया। लेकिन आॅस्ट्रेलिया ओपन में नोवाक जोकोविच के बाहर हो जाने से, उलटफेर के साथ शुरू हुई आज की तारीख में और भी कुछ होना बाकि था। 10 महीनों में पहली बार, पहली पारी में कोहली इकाई के स्कोर पर वापस लौटे।

कोहली के जाने के बाद धवन भी ज्यादा देर तक क्रीज पर नहीं टिके। भारत 25/3 के स्कोर के साथ ही काफी असहज स्थिति में आ गया था। मुकाबले के पांचवे ओवर में मैदान पर युवराज सिंह और एमएस धोनी की जोड़ी बनी।

खूबसूरती, हुनर, ताकत और टूटा हुआ स्पाइडर कैम

युवराज ने इस महीने की शुरूआत में कहा था, ‘‘उसके (धोनी) साथ खेलना वैसा ही होगा जैसे हम पुराने समय में शुरूआती दौर में खेला करते थे।’’ बिल्कुल, उनका मतलब वैसे ही फाॅर्म से भी था।

पारी के अंत तक 35 वर्षीय धोनी द्वारा ज्यादा छक्के लगाने की वजह से उनके अंगूठे ने जवाब दे दिया और फिजियो को पिच पर बुलाया गया। वहीं दूसरी तरफ युवराज ने अपनी उपस्थिति का एहसास जबर्दस्त ढंग से कराया। 

बल्लेबाजी के दौरान युवराज काफी शानदार नजर आ रहे थे। इंग्लैंड उनका विकेट लेने के लिए गेम प्लान के साथ आई लेकिन उनकी गेंदे ना तो इतनी छोटी थी और ना ही इतनी तेज़ कि वो इस खिलाड़ी को परेशान कर सके। 

दूसरी और धोनी की बल्लेबाजी के दौरान स्पाइडर-कैम के टुकड़े हो गए और कई गेंदे भी खो गई। इस तरह भारत अपने बड़े लक्ष्य की तरफ बढ़ रहा था।

धोनी और युवराज ने मिलकर 256 रनों की साझेदारी की जो एकदिवसीय मुकाबले में इंग्लैंड के खिलाफ चाौथे विकेट के लिए उच्चतम रन है। युवराज 43वें ओवर में 150 रन बनाकर आउट हुए और वहीं धोनी फुल टाॅस गेंद को डीप स्केवयर लेग की ओर भेजने के दौरान अपना विकेट गंवा बैठे। आखिरकार इंग्लैंड एक सही बाउंसर कराने में कामयाब रहा लेकिन वो पारी की अंतिम गेंद पर आया और भारत तब तक 381 रन स्कोरबोर्ड पर चढ़ा चुका था।

राॅय और रूट ने की इंग्लैंड को सही राह पर लाने की कोशिश

जानकारों के मुतबिक इंग्लैंड पहले ओडीआई के मुताबिक 30 रन पीछे रह गया था, तो इसलिए दूसरे मुकाबले में उन रनों को हासिल करने का काम शुरू किया गया। एलेक्स हेल्स के जल्दी आउट हो जाने के बाद भी इंग्लैंड को भारत की तुलना में अच्छा आगाज मिला। विराट कोहली ने जसप्रीत बुमराह को नई गेंद थमाई।

बुमराह और भुवनेश्वर कुमार ने शुरूआती स्विंग और सीम मूवमेंट हासिल किए, जिनमें से एक गेंद पर हेल्स का विकेट मिला था। उसके बाद आए दोनों ही बल्लेबाज़ क्रीज पर आराम से पारी बढ़ाते नजर आए। 

रूट और राॅय दोनों ही खिलाड़ियों ने ना सिर्फ अपना अर्धशतक पूरा किया बल्कि 20वें ओवर में उनके बीच 100 रनों की साझेदारी भी पूरी हो गई। 128/1 के स्कोर को देखकर लग रहा था कि इंग्लैंड के लिए इस लक्ष्य को हासिल कर पाना मुश्किल नहीं है। 

कप्तान मोर्गन का साहस काफी नहीं था

बाराबती स्टेडियम के चीफ पिच क्यूरेटर पंकज पटनायक ने, मुकाबले के दौरान मैदान पर पड़ने वाली भारी ओस के बारे में पहले ही चेतावनी दी थी। स्पिनर्स पर भरोसा करने वाले भारत के लिए दूसरी पारी में गेंदबाजी करना काफी चुनौतीपूर्ण काम बन गया। बहरहाल, कोहली ने जैसे ही अश्विन और जडेजा की तरफ गेंद बढ़ाई, उन्होंने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया।

अश्विन ने आते ही राॅय और रूट के बीच हुई शतकीय साझेदारी को तोड़ दिया। अश्विन की गेंद को रूट ने स्लाॅग स्वीप की तरह खेलते हुए हवा में उठाया और आसान कैच बनकर वो कोहली के हाथों में पहुंच गया जो मिड-विकेट पर खड़े थे। 

170/2 के स्कोर से इंग्लैंड 206/5 के स्कोर पर पहुंच गया।

ईयोन मोर्गन और मोईन अली के बीच हुई खूबसूरत साझेदारी ने इंग्लैंड को खेल में बनाए रखा। इंग्लैंड के तेज गेंदबाजों की तरह भारतीय तेज गेंदबाजी भी असरकारक नहीं दिख रही थी, जडेजा और अश्विन के ओवर खत्म हो जाने के बाद विराट कोहली के जेहन में जरूर आया होगा कि काश उनके पास टीम में एक और स्पिनर होता। वहीं जडेजा ने 42वें ओवर में अली का कैच ड्राॅप कर दिया और इंग्लैंड को जीतने के लिए 8 ओवर में 100 रनों की जरूरत थी।

दूसरे छोर से विकेट गिरने के बावजूद, कप्तान इयोन मोर्गन अकेले ही टीम को आगे ले जा रहे थे। बाएं हाथ के बल्लेबाज ने 102 रनों की जबर्दस्त पारी खेली, जिसमें उन्होंने 6 चैके और 5 छक्के लगाए। लेकिन वो रन आउट हो गए। इंग्लैंड 15 रनों से जीत हासिल करने से चूक गया लेकिन वो अपने बल्लेबाजी प्रदर्शन से खुश होंगे क्योंकि लक्ष्य का पीछा करने के मामले में ये अब तक का दूसरा उच्चतम ओडीआई चेज है।

England or West Indies? Who will win the first test?

Presenting Nostragamus, the first ever prediction game that covers all sports, including Cricket. Play the ENG vs WI challenge and win cash prizes daily!

Download the app for FREE and get Rs.20 joining BONUS. Join 30,000 other users who win cash by playing NostraGamus. Click here to download the app for FREE on android!

SHOW COMMENTS