हर्षा भोगलेः सचिन-सौरव दौर की याद आती है, मुझे बोलने से पहले सोचना नहीं पड़ता था

no photo
 |

हर्षा भोगलेः सचिन-सौरव दौर की याद आती है, मुझे बोलने से पहले सोचना नहीं पड़ता था

मशहूर क्रिकेट कमंटेटर हर्षा भोगले ने बीसीसीआई द्वारा कमेंटरी बाॅक्स से बाहर किए जाने पर खुल कर अपनी बात रखी। 55 वर्षीय भोगले ने सचिन-द्रविड़-सौरव दौर की बात की, जहां उन्हें कुछ भी बोलने से पहले सोचने की जरूरत नहीं पड़ती थी।

बीसीसीआई द्वारा हर्षा भोगले को कमेंटरी बाॅक्स से बाहर किए तकरीबन एक साल का वक्त गुजर चुका है। इकोनाॅमिक टाइम्स को दिए साक्षात्कार में हर्षा भोगले ने अपने पेशेवर करियर की भी बात की।

भारतीय क्रिकेट में उनके ‘दोस्तों’ के बारे में जब पूछा गया तब भोगले ने कहा, ‘‘मुझे नहीं पता। कई बार ज्यादा दोस्तों का ना होना बेहतर होता है। लेकिन मैं बीत चुके दौर को काफी याद करता हूं। सचिन, राहुल, अनिल, सौरव, श्रीनाथ, लक्षमण... वो काफी खूबसूरत पीढ़ी थी, जहां मुझे कुछ भी बोलने से पहले कुछ भी सोचने की जरूरत नहीं पड़ती थी। जब सचिन संघर्ष कर रहे थे तब मैंने एक बार कहा कि ‘ये देखिए एक सम्राट सामान्य व्यक्ति की तरह रास्ते पर चल रहा है।’ मैंने किसी से भी ये नहीं सुना कि सचिन को ये कभी बुरा लगा।’’

‘‘मेरा उन लोगों के साथ काफी दोस्ताना व्यवहार था। एक बार सौरव ने मुझ से मेरी राय मांगी थी। मैंने मना कर दिया था और उससे कहा कि आप इस खेल के उच्चतम स्तर पर हैं। तब उन्होंने कहा कि ‘तुमने कितने विश्व कप कवर किए हैं? मैं जानना चाहता हूं कि इस पर तुम्हारी क्या राय है।’’

भोगले को उस वक्त हटाया गया था जब अमिताभ बच्चन ने ये शिकायत की थी कि कमंटेटर ट्विटर पर विदेशी खिलाड़ियों के बारे में ज्यादा लिख रहे हैं। बच्चन के ट्विट को उस वक्त के कप्तान एमएस धोनी द्वारा रिट्विट किया गया था।

इस पर भोगले ने कहा, ‘‘किसी ने भी मुझे ये नहीं बताया कि वजह क्या थी। अगर किसी ने कहा होता कि आप उतने अच्छे नहीं है तो भी ठीक होता। कुछ बड़े खिलाड़ियों ने मुझे इस बारे में बताया। मुझे बताया गया कि मैंने प्रसारण के नियमों का उल्लंघन किया है जिसके लिए जुर्माना भी लग सकता है। लेकिन किसी ने भी मुझ से नजरे मिलाकर ये बात नहीं कही। ‘यही वो वजह थी।’ ये मेरे करियर का सबसे बड़ा सबक था। दूसरे कई मौके आने शुरू हुए। सबको लगा कि रास्ते बंद हो गए हैं, जो सच था... लेकिन खिड़कियां खुली हुई थी।’’

जब अमिताभ बच्चन वाली घटना के बारे में उनसे पूछा गया तब उन्होंने कहा कि वो इस फिल्मी सितारे के बहुत बड़े प्रशंसक हैं।

‘‘हम अलग-अलग हालातों में अलग-अलग इंसान हो जाते है। दरअसल मैंने श्री बच्चन को लिखा था। मैंने उन्हें सीधे संदेश भेजा था कि पिछले 40 बरसों से मैं उनका प्रशंसक रहा हूं।’’

‘‘जब मैं हैदराबाद काॅलेज में था और उस समय शुक्रवार को उनकी फिल्म रिलीज होने वाली होती थी तो मेरा एक दोस्त सोमवार को क्लास बंक करके शनिवार शो की टिकट ले आता था। वो अपनी शख्सियत के साथ जो सम्मान लेकर चलते हैं मैं उसका भी प्रशंसक हूं। और मैंने उन्हें संदेश में एक मौका देने के लिए कहा था, जिसे पाकर मैं खुशी-खुशी ये सारी स्थिति साफ करना चाहता था।’’

अमिताभ बच्चन ने जवाब भेजा लेकिन थोड़े अंतराल के बाद। भोगले ने उसका खुलासा तो नहीं किया लेकिन बताया कि वो काफी उदार जवाब था।

भोगले ने आगे बताया कि, ‘‘मैंने उन्हें ये समझाने की कोशिश की थी की हिन्दी टेलेकास्ट भारत-केन्द्रीय होता है इसलिए हम जानते हैं कि इस मार्केट का झुकाव क्या है। लेकिन हम ये इंग्लिश टेलेकास्ट के साथ नहीं कर सकते हैं क्योंकि ये अलग अलग देशों में जाता है। पूर्व में, भारतीय श्रोता इसलिए नाराज हो गए थे क्योंकि विदेशी कमंटेटर भारतीय टीम के बारे में ज्यादा नहीं बोलते थे। हम उनकी तरह नहीं बन सकते हैं।’’

भोगले ने ये भी खुलासा किया कि उन्होंने राहुल द्रविड़ को शादी से संबंधित सलाह भी दी थी।

‘‘मुझे याद है कई साल पहले मैंने राहुल से कहा था कि ‘राहुल, कभी भी अपनी प्रशंसक से शादी मत करना।’ तुम्हारे पास एक ऐसा शख्स होना चाहिए जो तुम्हे तुम्हारी गलतियां बताए। तुम उस दिन गुस्से में थे। तुम उस दिन उदासीन थे। लेकिन अगर तुम अपनी प्रशंसक से शादी करोगे, तो ये सब तुम्हें कौन बताएगा?’’

‘‘मैं युवा खिलाड़ियों को लेकर काफी चिंतित हूं क्योंकि वो कम उम्र में काफी जल्दी पैसा कमा रहे हैं। ये फिल्मी सितारों के साथ अकसर होता है।’’

भोगले ने इस सवाल का भी जिक्र किया जिसमें ये कहा जाता है कि आप अगर पूर्व क्रिकेटर नहीं है तो आप कमेंटरी नहीं कर सकते हैं। 

भोगले ने कहा, ‘‘ये तस्वीर तैयार की हुई हैं कि अगर आप क्रिकेट नहीं खेलते हैं तो आप यहां जीवित नहीं रह सकते हैं। ये असुरक्षा की भावना को दर्शाता है। रतन टाटा ने कितने ट्रक चलाए हैं? इसका मतलब ये है कि वो अपनी कंपनी नहीं चला सकते हैं? ये चीजों को देखने का काफी निम्नतम नजरिया है।’’

अपनी बात खत्म करने से पहले हर्षा ने कहा, ‘‘अगर आप 50 टेस्ट मुकाबले खेल चुके हैं तो इसका मतलब है आप मुझे अच्छी कहानी सुनाने वाले हैं?’’

Predict IPL & WIN CASH! Can you predict the Game?

Join & Play NOW! Click here here to download Nostra Pro & get ₹20 Joining Bonus!

Win cash daily by predicting the right result on Nostragamus. Click here to download the game on Android! To know more, visit Nostragamus.in

SHOW COMMENTS