रहाणे को बाहर रखने का सवाल ही नहीं हैः अनिल कुंबले

no photo
 |

© Getty Images

रहाणे को बाहर रखने का सवाल ही नहीं हैः अनिल कुंबले

अनिल कुंबले ने अजिंक्य रहाणे को बाहर करने की संभावनओं पर विराम लगाया है, जिनकी जगह इंग्लैंड के खिलाफ तिहरा शतक लगाने वाले करूण नायर को लाने की बात की जा रही थी। उन्होंने दूसरे टेस्ट से पहले चिन्नास्वामी पिच के बारे में चल रही बातों को भी शांत किया।

शनिवार को शुरू होने वाले दूसरे टेस्ट से पहले कुंबले ने पत्रकारों को बताया, ‘‘रहाणे को ड्राॅप करने का कोई सवाल ही नहीं है। उसने काफी अच्छे रन बनाए हैं, वो पिछले दो सालों में काफी कामयाब रहा है। टीम के संगठन के बारे में फिलहाल अभी बात नहीं हुई है। सभी 16 खिलाड़ी उपलब्ध हैं।’’

पुणे में आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ हुए मुकाबले में भारत को 333 रनों से शिकस्त मिली थी, इस मैच में रहाणे ने कुल 31 रन बनाए थे। रहाणे के चोटिल होने के दौरान टीम में शामिल हुए करूण नायर ने इंग्लैंड के खिलाफ तिहरा शतक लगाया था लेकिन उसके बावजूद रहाणे को टीम मैनेजमेंट का समर्थन हासिल है।

‘‘हां, ये काफी दुर्भाग्यपूर्ण है कि तिहरा शतक लगाने के बावजूद करूण बाहर है। लेकिन इसी तरह टीम की योजना तैयार हुई। हम हमेशा पांच गेंदबाजों को खिलाने के बारे में सोचते हैं और ये दुखद है कि वो रिप्लेसमेंट के तौर पर आए। टीम के पास इस तरह चयन के विकल्प रहना अच्छी बात है।’’

कुंबले ने आगे कहा, ‘‘लोग समूह में कामयाब होते है। ये समूह की खूबसूरती होती है कि जो भी आकर अच्छा करता है टीम को उसका फायदा मिलता है लेकिन टीम के संयोजन के लिए लोगों को बाहर भी रखना पड़ता है। करूण का प्रदर्शन क्लास का है और ये हमने अंतर्राष्ट्रीय मौकों का इस्तेमाल करने के दौरान देखा है।’’

जब उनसे दूसरे टेस्ट में पांच गेंदबाजों को खिलाने का सवाल पूछा तो कुंबले ने जवाब दिया, ‘‘ये इस बात पर निर्भर करता है कि टेस्ट मैच को जीतने के लिए सही काॅम्बिनेशन क्या है। अगर हमें लगता है कि चार गेंदबाज काफी हैं या हमें पांच गेंदबाजों की जरूरत है तो ये निर्भर करेगा की आखिर हम क्या चाहते हैं। हमारा लक्ष्य मुकाबले को जीतना है।’’

पुणे पिच की आलोचना के बाद अब सभी की नजरें बैंगलोर में होने वाले दूसरे टेस्ट मुकाबले की पिच पर है।

विकेट के बारे में बात करते हुए कुंबले ने कहा, ‘‘सच कहूं तो मुझे चिन्नास्वामी के विकेट के बारे में ज्यादा मालूम नहीं है। मैं इसी मैदान पर खेलते हुए बड़ा हुआ लेकिन सामान्यतः ये बल्लेबाजी के लिए अच्छा रहता है। मुझे यकीन है कि इस विकेट पर नतीजा निकलेगा और एक टेस्ट मुकाबले में हम भी यही चाहते हैं।’’

‘‘अपने खेल के दिनों में मैंने कभी पिच पर ध्यान नहीं दिया। लोग मेरी गेंदबाजी के बारे में पिच से जोड़कर लिखते रहे, लेकिन एक गेंदबाज या एक कप्तान या एक कोच के तौर पर मैंने कभी पिच की तरफ ध्यान नहीं दिया। हां, हम पिच देखने जाते हैं और ये फैसला करते हैं कि इस पिच के हिसाब से हमें किस तरह की रणनीति बनाने की जरूरत है।’’

SHOW COMMENTS