भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया। रांची टेस्ट के चौथे दिन की अहम बातें

no photo
 |

© BCCI

भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया। रांची टेस्ट के चौथे दिन की अहम बातें

पहली पारी में लीड हासिल करने के बाद आॅस्ट्रेलियाई पारी में डेविड वाॅर्नर और नेथन ल्योन का विकेट हासिल करके भारत ने दिन का अंत बढ़त के साथ किया। विराट कोहली द्वारा आॅस्ट्रेलिया को बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित करने के फैसले से पहले पुजारा-साहा की साझेदारी की बदौलत भारत ने 603/9 का स्कोर किया।

स्कोरकार्डः आॅस्ट्रेलिया 451/10 (स्टीव स्मिथ 178(नाबाद), ग्लेन मैक्सवेल 104; रविन्द्र जडेजा 5/124) और 23/2 (डेविड वाॅर्नर 14, मैट रेनशाॅ 7(नाबाद), जडेजा 2/6) भारत 603/9 घोषित (पुजारा 202, साहा 117; पैट कमिन्स 4/106) 129 रनों से आॅस्ट्रेलिया पीछे है

हर बार नहीं बचा सकते ओ‘कीफ 

पुणे में हुए पहले टेस्ट में स्टीफन ओ‘कीफे के बेहतरीन प्रदर्शन के बाद आॅस्ट्रेलिया को ये लगने लगा की उनके दल में भी रंगना हेराथ जैसा खिलाड़ी आ चुका है। लेकिन पहले मैच के बाद उन्होंने कोई प्रभावशाली परफाॅर्मेंस नहीं दी है। मैच में जहां बाएं हाथ के परंपरागत गेंदबाज रविन्द्र जडेजा पांच विकेट हासिल करते दिखे, वहां ओ‘कीफ को संघर्ष करना पड़ा और वो 199 रन देकर सिर्फ 3 विकेट ही हासिल कर पाए।

Jadeja bowling lines © Cricinfo

ओ‘कीफ को भारतीय गेंदबाज के नक्शेकदम पर चलते हुए गेंद करानी चाहिए थी और बल्लेबाज को बाहर आकर खेलने के लिए मजबूर करना चाहिए था, मगर उन्होंने अलग ही रास्ता अपनाया। ओ‘कीफ रक्षात्मक तरीके से गेंदबाजी करते हैं और वो लेग स्टंप को टारगेट करते हैं। उन्होंने 3 विकेट जरूर हासिल किए लेकिन इसके लिए उन्हें 199 रन भी पड़े।

O'Keefe Bowling lines © Cricinfo

पुजारा-साहा ने निभाई खूबसूरत साझेदारी

टेस्ट क्रिकेट में परंपरागत तरीके से खेलकर तैयार की गई साझेदारी को देखने से बेहतर कुछ भी नहीं है। आज चेतेश्वर पुजारा और रिद्धिमान साहा की साझेदारी ने एक ऐसा ही मौका उपलब्ध कराया। लंबे समय तक बल्लेबाजी करने की क्षमता को लेकर साहा पर सवाल उठते रहे हैं लेकिन बंगाल के विकेटकीपर ने आज अपनी सधी हुई पारी से सबको शांत कर दिया।

रांची के जेएससीए स्टेडियम में पुजारा और साहा ने हर एक गेंद को उसके मेरिट के आधार पर खेला। इन दोनों के बीच तैयार होती साझेदारी को देखकर आॅस्ट्रेलियाई खिलाड़ी काफी परेशान नजर आएं। पारी के दूसरे हिस्से में साहा ने बल्लेबाजी छोर को संभाला और खराब गेंदों को उसके अंजाम तक पहुंचाया।

इस दौरान पुजारा ने ये दिखा दिया कि विशेषज्ञ उन्हें उनके करियर के आगाज से ही ‘अगला राहुल द्रविड़’ क्यों पुकार रहे हैं। 522 गेंदों का सामने करके उन्होंने राहुल द्रविड़ का रिकाॅर्ड तोड़ दिया है और वो एक पारी में सबसे ज्यादा गेंदों का सामना करने वाले पहले भारतीय बन गए हैं। अगर दूसरी छोर पर साहा मजबूती के साथ खड़े नहीं होते तो पुजारा के लिए इस मकाम तक पहुंच पाना मुमकिन नहीं था।

स्मिथ के फैसले पर उठे सवाल

इस सीरीज में स्मिथ ने बल्ले से काफी अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन यही बात उनकी कप्तानी को लेकर नहीं कही जा सकती हैं। डीआरएस विवाद के बाद से आॅस्ट्रेलिया का रिव्यू लेने का आंकड़ा काफी खराब रहा है। उन्होंने पांच बार रिव्यू की मांग की जिसमें से उन्हें बस एक में ही सफलता हासिल हुई। आखिरी दो रिव्यू पर पुजारा और साहा के बीच मजबूत होती साझेदारी का दबाव नजर आया।

आज सिर्फ रिव्यू को लेकर ही स्मिथ गलत साबित नहीं हुए। पुजारा और साहा आसानी से आॅस्ट्रेलियाई गेंदबाजी आक्रमण का सामना कर रहे थे। स्मिथ ने विकेट मिलने की उम्मीद की वजह से एक भी ओवर पार्ट-टाइम गेंदबाज से नहीं कराया। ऐसा बिल्कुल भी नहीं था कि उनके पास विकल्प मौजूद नहीं थे। स्मिथ ख्ुाद या फिर मैक्सवेल को गेंद थमा सकते थे जो भारतीयों के लिए एक चुनौती बन सकता था।

आॅस्ट्रेलियाई कप्तान रनों की गति को रोकने को लेकर ज्यादा चिंतित दिखे, जो पहले से ही कम था और अब उन्हें 150 रनों की लीड का पीछा करना है।

विराट कोहली के दांव से मुकाबला भारत के नियंत्रण में

दुनिया के किसी भी बल्लेबाज के लिए दिन के अंतिम समय में थकान के साथ बल्लेबाजी कर पाना सबसे कठिन होता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए विराट कोहली ने भारत को 150 रनों की बढ़त मिलने के तुरंत बाद ही पारी घोषित कर दी। उनका लक्ष्य डेविड वाॅर्नर का विकेट निकालना था और उन्होंने पहला ओवर रविचंद्रन अश्विन से कराया।

इतना ही नहीं, कोहली ने पहले ही ओवर से आक्रामक फिल्डिंग लगाई। वाॅर्नर ने दो चैके लगाकर अच्छा करने की कोशिश की लेकिन अश्विन ने सीधी गेंदे डालकर उन पर दबाव बनाना जारी रखा। वहीं दूसरे छोर से जडेजा ने स्टीफन ओ‘कीफे के पद चिन्हों का पालन करते हुए विकेट टू विकेट गेंद डाली और आॅस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाजों को परेशान किया।

ये तरीका भारतीयों के लिए काम कर गया और उन्होंने 14 के निजी स्कोर पर डेविड वाॅर्नर को पवैलियन भेजा, साथ ही नाइट वाॅचमैन के तौर पर आए ल्योन भी अपना विकेट गंवा बैठे।

In the last 5 IND vs SA ODIs, SA was bowled out twice, while IND was bowled out only once.

Will either team be able to bowl their opponent out? Predict on Nostragamus now! Join IND vs SA challenge and win up to ₹40,000.

Download Nostragamus for FREE and get ₹20 Joining Bonus! Click here to download app on Android.

SHOW COMMENTS