गेंद की कठोरता कम हो जाने से मुश्किल हुई, कोहली ने कहा

no photo
 |

Getty

गेंद की कठोरता कम हो जाने से मुश्किल हुई, कोहली ने कहा

रांची में हुए तीसरे टेस्ट मैच में जिन गेंदों का इस्तेमाल हुआ उसे लेकर विराट कोहली ने निराशा जाहिर की है। लेकिन इस दौरान वो आॅस्ट्रेलियाई बल्लेबाज पीटर हैंडस्कोम्ब और शाॅन मार्श की तारीफ करना नहीं भूले जिन्होंने इस मैच को ड्राॅ करवाया।

भारत द्वारा पहली पारी के आधार में 152 रन की बढ़त ले लेने के बाद, आॅस्ट्रेलिया काफी असंमजस की स्थिति में पहुंच गई जब उन्होंने दूसरी पारी में अपने चार विकेट गंवा दिए। लेकिन शाॅन मार्श और पीटर हैंडस्कोम्ब के बीच हुई शतकीय साझेदारी की बदौलत आॅस्ट्रेलिया ने जबर्दस्त वापसी की और मुकाबले का अंत ड्राॅ के रूप में कराया।

लेकिन कोहली को लगता है कि गेंद के नर्म हो जाने की वजह से मुकाबले का ये नतीजा निकला और इसकी वजह से ही भारतीय गेंदबाज कमाल नहीं दिखा पाए।

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान ने मैच के बाद हुई प्रेजेंटेशन में कहा, ‘‘विकेट ने हमें निराश नहीं किया। जाहिर है जिस तरीके से तीसरे, चाौथे और पांचवें दिन विकेट के टूटने की उम्मीद की जाती है उसने वैसा ही बर्ताव किया, लेकिन मुझे लगता है कि गेंद की कठोरता एक बड़ा कारक रही।’’

‘‘कल शाम को जब गेंद कठोर थी तब वो तेजी से टर्न कर रही थी, सुबह के समय भी वो वैसे ही बर्ताव कर रही थी लेकिन दूसरे सेशन में वो उतनी कठोर नहीं थी इसलिए विकेट पर पेस ला पाना गेंदबाजों के लिए मुश्किल हो गया था। जब मुकाबला पांचवे दिन तक पहुंच जाता है तो पेस कम हो जाता है। इसके बाद हमने दूसरी नई गेंद के साथ दो विकेट हासिल किए लेकिन मध्य सेशन में गेंद की कठोरता बड़ा फैक्टर बन गई।’’

कोहली ने आॅस्ट्रेलिया के बल्लेबाज मार्श और हैंड्स्कोम्ब की तारीफ की जिन्होंने आॅस्ट्रेलिया को हार के मुंह से निकालते हुए मुकाबला ड्राॅ करवाया।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं उनके प्रयास का श्रेय बिल्कुल नहीं छीनना चाहता हूं। उन्होंने बहुत अच्छी बल्लेबाजी की। लंच तक चार विकेट गिर जाने के बाद उन्होंने अगले सत्र में एक भी विकेट नहीं गंवाया। इसलिए श्रेय उनको जाता है, हम समझते हैं अगर कोई अच्छा खेलता है तो उसे श्रेय मिलना चाहिए। लेकिन हम अपने प्रयास से भी काफी खुश हैं। इस मुकाबले में जडेजा की गेंदबाजी शानदार रही। सभी गेंदबाजों ने अच्छा किया लेकिन मेरी राय में जडेजा बेहतरीन रहे। अगर आप उसकी इकोनाॅमी देखें, इस पिच पर उसने उच्च-स्तरीय गेंदबाजी की और उसने दिखा दिया कि आखिर क्यों वो अश्विन के साथ नंबर 1 गेंदबाज के स्थान पर हैं।’’

इस पारी में भारत ने 71वें ओवर में गेंद बदली और दूसरी नई गेंद की मांग भी जल्द से जल्द की। जब आॅस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने गेंद के किसी भी तरह के प्रभाव के बारे में बात नहीं की। उन्होंने कहा, ‘‘इस बारे में बिल्कुल नहीं सोचा था। दोनों ही टीमों को एक जैसी एसजी गेंदों से खेलना होता है।’’

SHOW COMMENTS