भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया। हैंड्स्काॅम्ब और मार्श की बदौलत आॅस्ट्रेलिया ने कराया ड्राॅ

no photo
 |

BCCI

भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया। हैंड्स्काॅम्ब और मार्श की बदौलत आॅस्ट्रेलिया ने कराया ड्राॅ

रांची टेस्ट के आखिरी दिन शाॅन मार्श और हैंडस्काॅम्ब की बेहतरीन पारी की वजह से सीरीज का तीसरा टेस्ट भारतीय गेंदबाजों के हाथों से निकल गया। इस मुकाबले को ड्राॅ कराकर आॅस्ट्रेलियाई टीम फायदे में हैं क्योंकि पिछली बाॅर्डर गावस्कर ट्राॅफी उन्हीं के नाम है।

स्कोरकार्डः आॅस्ट्रेलिया 451 और 204/6 (पीटर हैंडस्कोम्ब 72 (नाबाद), शाॅन मार्श 53; रविन्द्र जडेजा 4/54) ड्रा बनाम भारत 603/9 घोषित

दिन 1:

सीरीज के पहले दो टेस्ट मुकाबलों के लिए इस्तेमाल किए गए पिच पर काफी विवाद के बाद रांची ने उपयुक्त टेस्ट ट्रैक मुहैया कराया। टाॅस जीतने के बाद आॅस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया लेकिन भारत ने खेल में बने रहने के लिए अपना काम किया और जल्द ही विकेट निकाले। भारतीय पेसर्स ने अपनी लाइन और लेंथ को बनाए रखने की कोशिश की लेकिन स्टीव स्मिथ और ग्लेन मैक्सवेल की साझेदारी के सामने ये व्यर्थ नजर आया। जिनकी बदौलत आॅस्ट्रेलिया ने पहले दिन 299/4 का स्कोर किया। वहीं स्मिथ ने टेस्ट करियर में 5000 रनों का आंकड़ा भी पार किया।

दिन 2:

स्टीव स्मिथ को सर्वश्रेष्ठ कंटेंपररी टेस्ट बल्लेबाजों में से एक माना जाता है और उन्होंने एक बार फिर इसे साबित भी कर दिया। उन्होंने मास्टर-क्लास बल्लेबाजी का प्रदर्शन करते हुए नाबाद 178 रनों की पारी खेली जिसकी मदद से आॅस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 451 रनों का स्कोर खड़ा किया। वहीं जडेजा ने इस बढ़ते हुए स्कोर को 5/124 का आंकड़ा हासिल करके रोकने में अहम भूमिका निभाई।

अच्छी परिस्थिति का फायदा उठाते हुए केएल राहुल और मुरली विजय ने साझेदारी करके बढ़िया शुरूआत भारत को देने की कोशिश की। भारत दिन का अंत बढ़त के साथ करना चाहता था लेकिन कर्नाटक का बल्लेबाज अच्छी शुरूआत को बड़ी पारी में तब्दील नहीं कर सका और वो 67 पर आउट हो गया। विजय और पुजारा ने खेलते हुए दूसरे दिन के खेल का अंत किया और भारत का स्कोर 120/1 रहा।

दिन 3:

ये दिन चेतेश्वर पुजारा के नाम रहा जिन्होंने रांची की पिच पर धैर्य का प्रदर्शन करते हुए अपना 11वां टेस्ट शतक लगाया। वहीं दूसरी तरफ विजय ने उनका बखूबी साथ निभाया और 82 रन बनाए। स्टीफन ओ‘कीफ की गेंद को खेलने के दौरान उन्हें अपना विकेट गंवाना पड़ा। 

आॅस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम में वापसी करने वाले पैट कमिन्स ने अपनी मौजूदगी को सही साबित करते हुए 59 रन देकर 4 विकेट निकाले और इस बात को सुनिश्चित किया की ये मुकाबला भारत के हाथों में ना चला जाए। वैसे इससे पुजारा और बाद में आए रिद्धिमान साहा पर कोई असर नहीं पड़ा। इन दोनों ने दिन का खेल खत्म होने तक भारत का स्कोर 360/6 तक पहुंचाया।

दिन 4:

इस दिन पुजारा अपने पूरे फाॅर्म में नजर आए जिसे क्रिकेट की दुनिया के हर एक शख्स ने देखा। पिछले पूरे दिन बल्लेबाजी करने के बाद भी पुजारा हमेशा की तरह नई उर्जा के साथ मैदान पर उतरे। 

पुजारा और साहा ने मिलकर सातवे विकेट के लिए रिकाॅर्ड 199 रनों की साझेदारी की, जिसकी मदद से भारत ने पहली पारी में 603 रनों का स्कोर किया। गौरतलब है कि 150 रनों की लीड मिलने के बाद पारी घोषित करने से पहले रविन्द्र जडेजा ने भी तेजी से अपना अर्धशतक पूरा किया। 

603/9 के स्कोर पर विराट कोहली द्वारा पारी घोषित करने के बाद आॅस्ट्रेलिया को बल्लेबाजी के लिए आतमंत्रित किया गया। जडेजा ने फाॅर्म में चल रहे डेविड वाॅर्नर और नेथन ल्योन का विकेट लेकर आॅस्ट्रेलिया को दिन की समाप्ति 23/2 के स्कोर पर करने के लिए मजबूर किया। इस मुकाबले में भारत मजबूत स्थिति में आ गया था।

दिन 5:

आखिरी दिन आॅस्ट्रेलिया बल्लेबाजी करने के लिए उतरी। मैट रेनशाॅ और स्टीव स्मिथ ने तकरीबन डेढ़ घंटे तक बल्लेबाजी की। लेकिन ईशांत शर्मा ने बेहतरीन इनस्विंगर कराकर रेनशाॅ को एलबीडब्ल्यू कराया। अगले ही ओवर में जडेजा ने स्मिथ का विकेट लेकर इस मुकाबले को भारत के पक्ष में डाल दिया।

जैसे-जैसे ये मुकाबला आगे बढ़ा आॅस्ट्रेलिया ने वापसी करने का अच्छा प्रयास किया। पीटर हैंडस्कोम्ब और शाॅन मार्श ने पांचवें विकेट के लिए 373 गेंदे खेलकर 124 रनों की साझेदारी की। 

इन दोनों ने मिलकर 62 ओवर तक बल्लेबाजी की। भले ही जडेजा ने मार्श का विकेट निकाला लेकिन इस टेस्ट मुकाबले को जीतने के लिए इतना काफी नहीं था।

चार टेस्ट मैचों की सीरीज का आखिरी मुकाबला धर्मशाला में 25 मार्च से खेला जाएगा। बाॅर्डर गावस्कर ट्राॅफी को आॅस्ट्रेलिया से वापस पाने के लिए भारत को ये मुकाबला जीतना होगा। जिस तरह से सीरीज आगे बढ़ी है उससे सिर्फ अंदाजा ही लगाया जा सकता है कि आखिरी मुकाबले का नतीजा किसके हक में जाएगा।

SHOW COMMENTS