भीषण सिंह बेदी ने रविन्द्र जडेजा के योगदान को 'शानदार' कहा

no photo
 |

Getty Images

भीषण सिंह बेदी ने रविन्द्र जडेजा के योगदान को 'शानदार' कहा

भीषण सिंह बेदी ने रविन्द्र जडेजा में आये बदलाव की तारीफ की और कहा कि सौराष्ट्र के खिलाड़ी मैच जिताने वाले गेंदबाज़ के मामले में रविचंद्रन अश्विन की बराबरी कर सकते हैं, हालाकिं पूर्व स्पिनर ने दोनों के बीच तुलना नहीं की। जडेजा इस वक़्त टेस्ट गेंदबाजों की रैंकिंग में शीर्ष स्थान पर हैं।

चार टेस्ट मुकाबलों की यह शृंखला इस वक़्त बराबरी पर है। एक दिलचस्प पांचवे दिन के मैच के बाद, मेहमान टीम रांची में हुए तीसरे टेस्ट को ड्रा कराने में कामयाब रही। ऐसे में अब 25 मार्च से धर्मशाला में होने वाला मुकाबला निर्णायक होगा।

इस शृंखला में जडेजा भारत के बेहतरीन प्रदर्शक रहे हैं और वह इसके लिए तारीफ के हक़दार भी हैं। बाएं हाथ के स्पिनर ने बेंगलुरु में 6 विकेट चटकाए थे वहीं रांची में उन्होंने 9 विकेट अपने नाम किये थे।

बाएं हाथ के स्पिनर ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को अपनी भिन्नता के ज़रिये धुल चटाने में कामयाब हुए हैं। इस रास्ते पर अश्विन के मुकाबले, जडेजा ने ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को ज्यादा परेशान किया है।

"रविन्द्र जडेजा खिलाड़ी के तौर पर काफी शानदार रहे हैं। वह बल्लेबाजी और गेंदबाजी, दोनों में ही बेहतरीन योगदान दे रहे हैं। वह रविचंद्रन अश्विन के करीब आ रहे हैं। दोनों ने ही अपने अच्छे प्रदर्शन से टीम की मदद की है। इसीलिए, दोनों में कोई तुलना नहीं हो सकती," बेदी ने कहा।

जडेजा का घरेलू सत्र काफी अच्छा रहा था और इस दौरान उन्होंने 67 विकेट चटकाए हैं। जिनमें चार बार उन्होंने मैच में पांच विकेट अपने नाम किये। वैसे तो करियर की शुरुआत उन्होंने गेंदबाजी में सक्षम बल्लेबाज़ के तौर पर की थी, लेकिन अब वह दोनों ही भूमिका बखूबी निभाते हैं। सच तो ये है कि जडेजा ने अब टेस्ट गेंदबाजों की रैंकिंग में अश्विन को भी पीछे छोड़ दिया है। घरेलू टेस्ट सत्र में 12 मैचों के बाद, उनका औसत (22.98) भी अश्विन से बेहतर है।

वहीं, ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच मैदान में भी सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। तीसरे टेस्ट में मैक्सवेल ने चोटिल विराट कोहली का मज़ाक उड़ाया था। इस मुद्दे पर बात करते हुए बेदी ने कहा, "दो गलत चीज़ें एक सही चीज़ को उत्पन्न नहीं कर सकती।"

इस नए मामले के कारण पिछले वक़्त से इन दोनों टीम के बीच हुए विवाद की परंपरा बरक़रार है।

SHOW COMMENTS