भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया। धर्मशाला टेस्ट के तीसरे दिन की अहम बातें

no photo
 |

© BCCI

भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया। धर्मशाला टेस्ट के तीसरे दिन की अहम बातें

सीरीज के आखिरी और निर्णायक टेस्ट मुकाबले के तीसरे दिन रविन्द्र जडेजा के आॅल-राउंड प्रदर्शन की बदौलत ये मैच टीम इंडिया के हाथों में आ गया है। आॅस्ट्रेलिया को 137 पर रोकने के बाद भारत को दिन 4 में जीत के लिए सिर्फ 87 रनों की जरूरत है और इसके साथ ही वो बाॅर्डर गावस्कर ट्राॅफी पर कब्जा जमा लेंगे।

स्कोरकार्डः आॅस्ट्रेलिया 300/10 (स्मिथ 111; कुलदीप 4/68) और 137/10 (मैक्सवेल 45; जडेजा 3/24) भारत 332/10 (जडेजा 63; ल्योन 5/92) और 19/0 (राहुल 13 नाबाद) आॅस्ट्रेलिया 87 रन आगे

धर्मशाला की विकेट से आॅस्ट्रेलिया को नहीं है कोई शिकायत

सीरीज की पहली दो पिचों को क्रमशः ‘‘खराब’’ और ‘‘औसत दर्जे से कम’’ की रेटिंग मिलने के बाद स्मिथ ने रांची की पिच को भी अच्छा नहीं बताया था। लेकिन उन्हें धर्मशाला के एचपीसीए में मुहैया कराई गई पिच से कोई शिकायत नहीं है। इस विकेट पर तेज गेंदबाज, स्पिनर्स और बल्लेबाज सभी के लिए कुछ ना कुछ उपलब्ध रहा। भारत के लिए स्पिनर्स ने छह विकेट निकाले तो तेज गेंदबाजों को तीन विकेट हासिल हुए। आॅस्ट्रेलिया के साथ भी ऐसा ही हुआ उनके स्पिनर्स को 6 और तेज गेंदबाजों को 4 विकेट मिले।

ऐसा नहीं है कि इस खूबसूरत स्टेडियम में सिर्फ गेंदबाज ही धमाल मचा रहे हैं। स्टीव स्मिथ और केएल राहुल ये दिखा चुके हैं कि अच्छी शुरूआत को बड़ी पारी में बदलना मुश्किल नहीं है, जब तक आप खुद ही अपना विकेट ना गंवा बैठे, जैसा राहुल कर चुके हैं। धर्मशाला की विकेट सीरीज की बाकि ट्रैक से अलग नजर आई।

जडेजा के साथ स्लेजिंग पड़ सकती है भारी

तीसरे दिन के सुबह के सत्र में आॅस्ट्रेलिया मुकाबले में वापसी करने के लिए संघर्ष कर रहा था, उसी बीच मैथ्यू वेड ने आॅस्ट्रेलियाई परंपरा का पालन करते हुए स्लेजिंग करने का फैसला किया लेकिन इसके लिए उन्होंने गलत खिलाड़ी को चुन लिया। भारतीय आॅल-राउंडर रविन्द्र जडेजा को वो परेशान करना चाह रहे थे लेकिन इस दौरान वो शांत बने रहे। मेहमान टीम ने जडेजा का मज़ाक उड़ाते हुए उनसे पूछा की भारत जब विदेशी दौरों पर टेस्ट खेलने के लिए जाता है तब जडेजा को उसमें जगह क्यों नहीं मिलती है। जडेजा ने इसका जवाब देने का फैसला किया लेकिन इसके लिए उन्होंने बल्ले का सहारा लिया।

उनके शानदार प्रदर्शन की बदौलत ही रांची टेस्ट में टीम 600 का आंकड़ा पार कर सकी लेकिन आज उनकी पारी काफी महत्वपूर्ण रही। उन्होंने ना सिर्फ अपने टीम के बाकि साथियों से ज्यादा स्कोर किया बल्कि स्टीव स्मिथ और डेविड वाॅर्नर से भी तेज गति से रन बनाए। उन्होंने अपने अर्धशतक का इंतजार किया और उसके बाद उन्होंने धमाकेदार अंदाज में तलवारबाजी करते हुए इसका जश्न मनाया।

कल उनके साथ हुई स्लेजिंग का जवाब देने के लिए उन्होंने तुरंत ही ल्योन की गेंद पर छक्का लगा दिया था और आज उन्होंने अपने अर्धशतक का इंतजार किया, जिसकी बदौलत टीम इंडिया इस मुकाबले में पकड़ बना सकी।

आॅस्ट्रेलिया के पिछड़ने में डेविड वाॅर्नर है एक वजह

इस सीरीज का आगाज होने से पहले तक कई लोगों ने ये अनुमान लगाया था कि भारत की टीम आॅस्ट्रेलिया को करारी शिकस्त देगी। बल्लेबाजी की जिम्मेदारी डेविड वाॅर्नर और स्टीव स्मिथ के कंधों पर थी। स्मिथ ने इस सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया और वो 500 रन पूूरे करने से सिर्फ 1 रन पीछे रह गए, इस दौरान उनका औसत 71.17 का रहा।

कई लोग वाॅर्नर को अच्छा टेस्ट खिलाड़ी नहीं मानते हैं लेकिन उनके आंकड़े कुछ और ही बयां करते हैं। उनके करियर का औसत 47.42 है लेकिन भारत के खिलाफ सीरीज शुरू होने से पहले पाकिस्तान दौरे पर उनका औसत 71.2 का था। बहरहाल, भारतीय सरजमीं पर उनका प्रदर्शन काफी खराब रहा। उन्होंने सिर्फ एक अर्धशतक लगाया और 24.12 के औसत से रन बनाए। ये उनके करियर का तीसरा सबसे खराब परफाॅर्मेंस है।

इस मैच और सीरीज का नतीजा भले जो भी हो, वाॅर्नर को विदेशी दौरों पर अपने प्रदर्शन के बारे में जल्द सोचना होगा, मैट रेनशा के उभरने से टेस्ट क्रिकेट में उनके भविष्य को लेकर गंभीर सवाल सामने आ सकते हैं।

SHOW COMMENTS