भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया। भारत ने हासिल की बाॅर्डर गावस्कर ट्राॅफी

no photo
 |

bcci

भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया। भारत ने हासिल की बाॅर्डर गावस्कर ट्राॅफी

चार टेस्ट मैचों की सीरीज का आखिरी टेस्ट मुकाबला जीतने के लिए 106 रनों का लक्ष्य था, जिसे केएल राहुल की पारी की बदौलत जल्द ही हासिल कर लिया गया और आखिरकार इस हाई-प्रोफाइल और विवादों से घिरी इस सीरीज को भारत 2-1 से जीतने में सफल रहा।

स्कोरकार्डः Australia 300/10 (Steve Smith 111, Matthew Wade 57; Kuldeep Yadav 4/68) & 137/10 (Glenn Maxwell 45, Matthew Wade 25*; Jadeja 3/24, Ashwin 3/29) lost to India 332 /10 (Rahul 60, Jadeja 63; Nathan Lyon 5/92) & India 106/2 (KL Rahul 51*, Ajinkya Rahane 38*)

दिन 1

ये दिन पदार्पण करने वाले खिलाड़ी कुलदीप यादव के नाम रहा। वो भारत की तरफ से टेस्ट क्रिकेट में कदम रखने वाले 288वें खिलाड़ी और देश के पहले चाइनामैन गेंदबाज बने जिन्होंने चार विकेट झटक कर आॅस्ट्रेलिया को 300 रनों पर समेट दिया। रांची टेस्ट में कंधा चोटिल करा बैठे विराट कोहली की जगह उन्हें टीम में मौका मिला। वहीं इस मुकाबले के स्टैंड-इन कप्तान की भूमिका अजिंक्य रहाणे ने निभाई। उन्होंने 27वें ओवर में स्टीव स्मिथ और डेविड वाॅर्नर की साझेदारी को तोड़ने के लिए कुलदीप यादव को गेंद थमाई और कुलदीप ने भी अपना कमाल बखूबी दिखाया। बहरहाल, स्मिथ ने भारत के खिलाफ अपना जबर्दस्त फाॅर्म जारी रखा। उन्होंने आठ टेस्ट मुकाबलों में सातवा शतक लगाया। आॅस्ट्रेलिया के कप्तान को दूसरे छोर से पूरा समर्थन नहीं मिल पा रहा था और धर्मशाला टेस्ट के पहले दिन उनकी पूरी टीम 300 रनों में पवैलियन लौट गई।

दिन 2

आॅस्ट्रेलिया की तरह अगले दिन भारत भी अपना लय खोती नजर आई। एक वक्त पर 108/1 के स्कोर पर खड़ी टीम इंडिया 221/6 पर पहुंच गई। रिद्धिमान साहा और रविन्द्र जडेजा की पारी की मदद से मेजबान टीम 248/6 तक पहुंची। अजिंक्य रहाणे ने कुछ ऐसे शाॅट्स लगाए जिनसे लगा कि वो अपने पुराने फाॅर्म में लौट आए हैं। भारत चाय तक 153 रन पर 2 विकेट गंवा चुका था जिसके बाद नेथन ल्योन ने अर्धशतक लगाने वाले चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, करूण नायर और रविचंद्रन अश्विन का विकेट लेकर आॅस्ट्रेलिया की इस मुकाबले में वापसी कराई। दिन का खेल खत्म होने तक भारत 52 रन पीछे था औैर 4 विकेट शेष थे।

दिन 3

जडेजा ने अपना अर्धशतक पूरा किया और भारत को अहम 32 रनों की बढ़त बनाई, जिसकी मदद से बार्डर गावस्कर ट्राॅफी जीतने की भारत की उम्मीदें कायम रही। मेजबान टीम 332 रनों पर सिमट गई। भारत की पूरी टीम को समेटने के बाद आॅस्ट्रेलिया तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक 92 रन पर 5 विकेट खो चुका था। उमेश यादव शाॅर्ट गेंदों से परेशान कर रहे थे तो वहीं भुवनेशवर कुमार ने स्टीव स्मिथ का महत्वपूर्ण विकेट लिया।

सुबह के सत्र में साहा और जडेजा ने आॅस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को काफी परेशान किया। कमिन्स बीच-बीच में बाउंसर्स करा रहे थे जिसे जडेजा ने चैके और छक्के के लिए भेजा। कमिन्स ने अपना एंगल बदला जिसकी वजह से उन्हें विकेट हासिल हो पाया। जडेजा के विकेट गंवाने के बाद भारत की टीम जल्द ही 332 रनों पर सिमट गई।

भारतीय गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन की वजह से भारत को ये मुकाबला और सीरीज जितने के लिए महज 106 रनों की जरूरत थी। उमेश यादव और भुवनेश्वर कुमार ने सधी हुई गेंदबाजी के साथ शुरूआत की बाद में अश्विन और जडेजा ने अपना रोल निभाया। 

दूसरी पारी में खेलने उतरी भारतीय टीम को मुरली विजय और केएल राहुल ने उपयुक्त आगाज दिलवाया। दिन का खेल खत्म होने तक बिना किसी नुकसान के भारत ने 19 रन स्कोरबोर्ड पर डाल दिए थे।

दिन 4

पहले सत्र के शुरूआती ओवर में केएल राहुल ने बाउंड्री लगाकर अपने अंदाज से विपक्षी टीम को आगाह कर दिया। बहरहाल, राहुल इस सीरीज में उच्चतम स्कोरर नहीं बने लेकिन उन्होंने भारत को अच्छी शुरूआत दिलवाने में अहम भूमिका निभाई। इस मुकाबले में भी उन्होंने दोबारा ऐसा किया। कमिन्स द्वारा विजय का विकेट लेने के बाद जल्द ही पुजारा रन-आउट हो गए। इसके बाद राहुल और रहाणे ने भारत की जीत सुनिश्चत की। भारतीय टीम 8 विकेट शेष रहते ही ये मुकाबला जीत गई और साथ ही उन्होंने बाॅर्डर गावस्कर ट्राॅफी पर भी कब्जा जमा लिया।

SHOW COMMENTS