इंग्लिश खिलाड़ियों ने की आईपीएल अनुबंध में बदलाव की मांग

no photo
 |

BCCI

इंग्लिश खिलाड़ियों ने की आईपीएल अनुबंध में बदलाव की मांग

आईपीएल में खेल रहे इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने काॅन्ट्रेक्ट में बदलाव करने की मांग की है क्योंकि नेशनल ड्यूटी या निजी कारणों की वजह से ना खेलने पर उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। उन्हें अपनी अनुपस्थिति के लिए अपनी फ्रैंचाइजी को भुगतान करना पड़ता है।

इंग्लैंड के खिलाड़ी जिनका इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड के साथ टेस्ट अनुबंध है उन्हें अपनी सालाना तनख्वाह का 0.5 प्रतिशत अपनी आईपीएल टीम को तब जमा करना पड़ता है जब वो अंतर्राष्ट्रीय वादों को पूरा करने के लिए आईपीएल में अनुपस्थित रहते हैं।

जिनका अनुबंध ईसीबी के साथ नहीं है, उन्हें शुरूआती 21 दिन गैर-मौजूद रहने के लिए अपनी फीस का 1 प्रतिशत भुगतान करना पड़ता है। 21 दिन की अवधि के बाद इसमें 0.7 प्रतिशत की दर से इजाफा होने लगता है। नीलामी में मिले कम दाम और इस कटौती की वजह से खिलाड़ियों को काफी नुकसान हो रहा है।

इसके अलावा भी खिलाड़ियों को अंतिम एकादश में ना चुने जाने और इंजरी की वजह से भी भुगतान करना पड़ता है। इनमें से कोई भी स्थिति होने पर खिलाड़ी भारत में ही रहे तो आईपीएल फ्रैंचाइजी 20 प्रतिशत तक की कटौती कर सकते हैं। 

डेली मेल में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, इंग्लैंड का एक खिलाड़ी इस सत्र में घर पर ही है क्योंकि उसे इस क्लाॅज की वजह से आर्थिक रूप से काफी नुकसान हुआ। रिपोर्ट ने आगे ये भी बताया कि ऐसे भी मौके देखने को मिले जब इन नियमों की वजह से इंग्लैंड के खिलाड़ियों को अपनी पूरी कमाई देनी पड़ी।

इस बार इंग्लैंड के क्रिकेटरों ने आईपीएल के अनुबंध में बदलाव की मांग की है जिसमें 2009 से कोई बदलाव ही नहीं हुआ है।

SHOW COMMENTS