सैमसन ने किया पंत के फार्मूले का खुलासा - "ज्यादा सोचो मत, बस मारते रहो"

no photo
 |

BCCI

सैमसन ने किया पंत के फार्मूले का खुलासा - "ज्यादा सोचो मत, बस मारते रहो"

दूसरे विकेट पर ऋषभ पंत के साथ, 143 रनों की सांझेदारी करने वाले संजू सैमसन ने पंत के 'बॉल देखो, बॉल मारो' के सुझाव के बारे में बताया। टीम के मेंटर राहुल द्रविड़ ने भी दोनों की तारीफ की लेकिन साथ ही मैच ख़त्म करने की कला पर जोर देने को भी कहा।

31 गेंदों 61 रन बनाने वाले सैमसन ने द्रविड़ के साथ iplt20.com पर हुए इंटरव्यू में पंत की बल्लेबाजी की धारणा के बारे में बताया जो दिल्ली के वीरेंदर सहवाग की धारणा से काफी मिलती जुलती है।

"मैंने पारी की शुरुआत अच्छी की थी। दो छक्के लगाने के बाद, मैंने सिंगल लेने का सोचा," सैमसन ने द्रविड़ से कहा। "वह (पंत) मेरे पास आये और कहा:

'भैया ज्यादा सोचो मत, बस मारे रहो। मेरे ख्याल से इससे मुझे काफी मदद मिली। उनके साथ बल्लेबाजी करना काफी मजेदार था।"

पंत भी सैमसन के साथ अपनी सांझेदारी के बारे में बात करते हुए बोले, "मैंने संजू भाई से कहा, अगर गेंद को मारना ही है, तो मारना चाहिए। अगली गेंद के बारे में मत सोचिये। आगर अगली गेंद पर भी शॉट लगे, तो लगा दीजिये।"

कप्तान करुण नायर के आउट होने के बाद क्रीज़ पर पहुंचे पंत ने सैमसन के साथ एक धमाकेदार सांझेदारी कायम की। हालांकि वह अपना शतक पूरा करने से तीन रनों से चूक गए, लेकिन उनकी पारी की तारीफ इस वक़्त हर कोई कर रहा है।

जब द्रविड़ ने पूछा कि क्या उनका लक्ष्य किसी ख़ास गेंदबाज़ की डिलीवरी थी, तो पंत ने कहा, "हम अगली गेंद के बारे में नहीं सोच रहे थे। जैसा की मैंने कहा, सर, अगर हमें ख़राब बॉल मिलता तो ... हमने अपनी योजना वैसे ही बनाई थी। मैंने संजू भाई से कहा (मारने योग्य गेंदों पर शॉट लगाने को) और वह शुरुआत में सोच विचारकर खेल रहे थे लेकिन जैसे थोड़ा समय बीता, उन्होंने भी हाथ खोल दिए।"

द्रविड़ ने भी, पंत की तारीफ की और कहा कि उनकी पारी की सबसे अहम बात यह थी कि उन्होंने शुरू से ही टीम के लिए सोचा, नाकि अपनी उपलब्धि के लिए।

"मुझे यह देखकर अच्छा लगा कि 97 के स्कोर पर भी ऋषभ अपने शतक के बजाय टीम की जीत के बारे में सोच रहे थे," द्रविड़ ने कहा। "वह शतक लगाने के फ़िराक में नहीं थे बल्कि अपनी टीम को जीत दिलाना चाहते हैं। दोनों खिलाड़ियों ने बेहतरीन खेला।"

तारीफों के बाद, द्रविड़ ने मुस्कुराहट से साथ दोनों खिलाड़ियों को सलाह के तौर पर कहा, "लेकिन मैं थोड़ा सख्त मेंटर हूँ और मुझे उम्मीद है कि अगले मैच में आप दोनों अपना काम बिना आउट हुए पूरा करेंगे।"

घरेलू सत्र में बेहतरीन प्रदर्शन के बाद पंत को IPL में जगह मिली और वह खुश है कि उन्होंने अपना फॉर्म बरक़रार रखा।

"यकीनन, घरेलू सत्र में अच्छा करने के बाद, IPL में अच्छा प्रदर्शन करना, सोने पे सुहागा है। हमने लगातार दो मुकाबले जीते हैं लेकिन हम सोच रहे हैं कि अब हर मैच को अलग अलग कर देखेंगे।"

आप पूरा संवाद यहां देख सकते हैं:

SHOW COMMENTS