कपिल देव ने विराट कोहली के फॉर्म में न होने को भारतीय टीम के लिए चिंता का विषय मानने से किया इनकार

no photo
 |

Getty Images

कपिल देव ने विराट कोहली के फॉर्म में न होने को भारतीय टीम के लिए चिंता का विषय मानने से किया इनकार

कपिल देव ने कहा है कि भारतीय प्रशंसकों को विराट कोहली के मौजूदा फॉर्म पर ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहिए, क्योंकि भारतीय कप्तान चैंपियंस ट्रॉफी में वापसी करने की क्षमता रखते हैं। कपिल ने यह भी माना कि उन्हें जसप्रीत बुमराह से ऐसे प्रदर्शन की उम्मीद नहीं थी, जैसा वह फिलहाल कर रहे थे।

विराट कोहली ने पिछले साल एक बेहतरीन दौर देखा था जब वह खेल से किसी भी प्रारूप में अजेय साबित हो रहे थे। राष्ट्रीय टीम के लिये, उन्होंने टेस्ट में 75.93, ODI में 92.37 और टी20 में 106.83 का औसत दर्ज किया था। उन्होंने नए साल की शुरुआत भी सर डॉन ब्रैडमैन के लगातार तीन दोहरे शतक के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए किया।

हालांकि, बांग्लादेश के खिलाफ आखिरी बार दोहरा शतक लगाने के बाद, कोहली के प्रदर्शन में थोड़ी गिरावट आई है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पांच पारियों में उन्होंने महज़ 46 रन बनाए और कंधे पर चोट लगने की वजह से वह आखिरी टेस्ट से बाहर हो गए। पिछले IPL सत्र में उन्होंने 16 मुकाबलों में 973 रन बनाए थे वहीं इस बार उन्होंने 10 मैचों में 308 रन ही बताये हैं। दिल्ली के खिलाफ हुए सत्र के आखिरी मुकाबले में उन्होंने 58 रन की पारी खेली थी। हालांकि, कपिल देव की माने तो यह परेशानी चैंपियंस ट्रॉफी तक कोहली का पीछा नहीं करेगी।

"यह चिंता का विषय नहीं है। मैं उनकी प्रतिभा और क्षमता को पहचानता हूँ। रन न बनाने की तो कोई वजह ही नहीं है," PTI के अनुसार कपिल ने कहा।

"वह एक अहम खिलाड़ी हैं, और अगर वह रन लेना शुरू करते हैं, तो पूरी टीम में जोश आ जाता है। अगर आपके कप्तान रन लेने लगे तो वह सबसे अच्छा होता है।"

भुवनेश्वर कुमार भी अच्छे हैं, उमेश यादव भी अच्छे हैं, मोहम्मद शमी बेहतरीन हैं। रविचंद्रन अश्विन वापसी करेंगे और रविन्द्र जडेजा भी हैं। यह देश के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ हैं।

कपिल डी

1983 के विश्व कप में विजेता बनी भारतीय टीम के कप्तान रहे कपिल देव ने 225 मुकाबलों में 253 विकेट के साथ अपने कार्यकाल का अंत किया वहीं उनका औसत 27.45 का था। लेकिन दिग्गज हरफनमौला खिलाड़ी ने मौजूदा भारतीय गेंदबाजी को भारत के इतिहास का सबसे बेहतरीन बल बताया और खासकर उन्होंने जसप्रीत बुमराह की भी तारीफ की।  

"जब मैंने बुमराह को पहली बार देखा था, तो मुझे उनसे कुछ ज्यादा उम्मीदें नहीं थी। लेकिन उनका आत्म विश्वास बहुत ज्यादा है। जब आपकी हरकतें स्पष्ट न हो, तो इतनी अच्छी बोलिंग लाइन और लेंग्थ और बेहतरीन योर्कर डालना आसान नहीं होता। उनके अन्दर वो ताक़त है। वह जो करना चाहते हैं, वह कर पाते हैं," कपिल ने कहा।

"उनकी मानसिकता सबसे अच्छी है और उनको देखने के पहले दिन से ज्यादा मैं अब उनका सम्मान करने लगा हूँ।"

"अगर मैं सारे खिलाड़ियों को साथ में रखकर देखूं, तो मुझे नहीं लगता किसी और के लिए कोई जगह है। भुवनेश्वर कुमार भी अच्छे हैं, उमेश यादव भी अच्छे हैं, मोहम्मद शमी बेहतरीन हैं। रविचंद्रन अश्विन वापसी करेंगे और रविन्द्र जडेजा भी हैं। यह देश के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ हैं।"

ICC चैंपियंस ट्रॉफी पर अपनी पकड़ बरक़रार रखने के लिए खेलने वाली भारतीय टीम, कपिल के नज़रिए से काफी मज़बूत है और साथ ही एमएस धोनी और युवराज सिंह जैसे खिलाड़ियों का अनुभव भी टीम के पास है।

इस पड़ाव पर पाकिस्तान के पास खोने के लिए कुछ भी नहीं है। उन्हें अब जो भी मिलेगा वह उनका फायेदा ही होगा और वे उपेक्षित खिलाड़ी हैं। समय आने पर वे आक्रामक हो सकते हैं लेकिन भारतीय टीम भी कम मज़बूत नहीं है।

"देखा जाए तो टीम काफी मज़बूत है। शायद यह कहा जा सकता है कि टीम बाकी के पक्षों से बेहतर है और इसीलिए मैं यह कह सकता हूँ कि टीम की स्थिति अच्छी है," पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा।

"दोनों ही युवा खिलाड़ियों का काफी सम्मान करते हैं। वह अपनी क्षमता के अनुसार खेलते हैं। धोनी और युवराज जैसे 15 साल पहले थे, अब उनसे उसी रवैये की उम्मीद नहीं की जा सकती। उनका अनुभव स्पष्ट नज़र आता है।"

भारत और पाकिस्तान के बीच 4 जून को बर्मिंघम में मुकाबला होगा। ICC के मुकाबलों में भारत पाकिस्तान से बेहतर रहा है, लेकिन चैंपियंस ट्रॉफी में मामला उल्टा भी पड़ सकता है। 1983 जे विश्व कप विजेता की माने तो पाकिस्तान उपेक्षित खिलाड़ियों के तौर पर खेलने की वजह से ज्यादा दबाव में नहीं होगा।

"भारतीय टीम की स्थिति कई गुना अच्छी है और खिलाड़ी बेहतरीन फॉर्म में हैं। तो कमसेकम कागजों पर हमारी टीम बेहतर है," कपिल ने कहा।

इस पड़ाव पर पाकिस्तान के पास खोने के लिए कुछ भी नहीं है उन्हें अब जो भी मिलेगा वह उनका फायेदा ही होगा और वे उपेक्षित खिलाड़ी हैं समय आने पर वे आक्रामक हो सकते हैं लेकिन भारतीय टीम भी कम मज़बूत नहीं है

SHOW COMMENTS