user tracker image

सुरेश रैना के करियर का अंत या होगी वापसी?

no photo
camera iconcamera icon|

© Getty Images

सुरेश रैना के करियर का अंत या होगी वापसी?

25 अक्टूबर 2016, इस दिन सुरेश रैना अपना एक साल पूरा कर चुके हैं जब उन्होंने आखिरी बार एकदिवसीय मुकाबलों के लिए टीम इंडिया का प्रतिनिधित्व किया था जिसमें आईसीसी विश्व कप 2015 के मुकाबले भी शामिल रहे। अब जब भारत की नजरें चैंपियंस ट्राॅफी 2017 पर है, तब ऐसे वक्त में क्या रैना कामयाब वापसी कर पाएंगे?

इस बात पर शायद ही नजर गई हो कि सुरेश रैना को टीम का हिस्सा बने तकरीबन एक साल का वक्त गुजर गया है। उत्तर प्रदेश के इस खिलाड़ी ने अपना आखिरी मुकाबला साल भर पहले 25 अक्टूबर को खेला था और अफसोस इस बीच उनकी कमी किसी को नही खली। वो एमएस धोनी और युवराज सिंह के साए में मध्यक्रम का हिस्सा बने और महत्वपूर्ण योगदान भी देते रहे। कौन भूल सकता है विश्व कप 2011 के क्वार्टर फाइनल में आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ 34 रन और सेमीफाइल में पाकिस्तान के खिलाफ खेली गई 36 रन की पारी को। ये काफी दुर्भाग्यपूर्ण रहा कि इस बाएं हाथ के बल्लेबाज को वायरल बुखार की वजह से न्यूजीलैंड के खिलाफ चल रही सीरीज से बाहर होना पड़ा। क्या उन्होंने बीते समय में कोई ऐसा प्रदर्शन किया है जिसके दम पर उन्हें टीम में वापस बुलाया जाए?

आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2015 के सेमीफाइनल से टीम इंडिया के बाहर निकल जाने पर शायद ही किसी को यकीन हुआ हो, पर उस टूर्नामेंट में भी भारत के लिए सकारात्मकता छिपी हुई थी और उनमें से एक सुरेश रैना का प्रदर्शन था। टूर्नामेंट के दौरान उनका प्रदर्शन औसत से कम ही था लेकिन चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान के खिलाफ 74 रन की पारी खेलकर उन्होंने टीम इंडिया को इस विरोधी के खिलाफ जीत का रिकाॅर्ड बनाए रखने में मदद की। इसके अलावा जिंबाब्वे और बांग्लादेश के खिलाफ भी उन्होंने महत्वपूर्ण पारी खेली। 

 © Getty

2015 में हुए आईपीएल में सुरेश रैना चेन्नई सुपर किंग्स की तरफ से खेलते हुए 17 मुकाबलों में सिफ 374 रन ही बना सके। ये पहला मौका था जब आईपीएल में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी रहने वाले रैना ने एक सत्र में 400 से कम रन बनाए। बांग्लादेश के खिलाफ हुई द्विपक्षीय सीरीज में उनकी नाकामयाबी ने मैनेजमेंट को उनका रिपलेस्मेंट ढूंढने का मौका दे दिया।

नंबर 4 के लिए अजिंक्या रहाणे की दावेदारी मजबूत हो रही थी, रैना के पास मौका था कि वो सीरीज के पहले एकदिवसीय मुकाबले में मध्यक्रम पर आकर खुद को साबित करें। भारत 307 रनों के टारगेट का पीछा करते हुए 105 रनों पर 3 विकेट गवां चुका था। ऐसे वक्त में आए रैना ने अच्छी शुरूआत करने की कोशिश की। मगर टीम को जब जीत के लिए 120 रनों की जरूरत थी तब उन्होंने अपना विकेट खो दिया और भारत को उस मुकाबले में 79 रनों से शिकस्त मिली। बहरहाल, इस मुकाबले में सभी बल्लेबाज अपनी भूमिका नहीं निभा पाए लेकिन रैना की परफाॅर्मेंस पर लोगों ने सवालिया निशान लगाए।

 © Getty

इस खिलाड़ी को कप्तान धोनी का साथ मिला और अगले मुकाबले के लिए रहाणे को टीम से बाहर करते हुए अंबाती रायडू को जगह दी गई। इस मुकाबले में फिर वही कहानी दोहराती हुई दिखी। टीम का स्कोर-कार्ड 110/4 था, ऐसे वक्त में भारत को एक संभली हुई पारी की जरूरत थी। कप्तान द्वारा दिए गए इस जीवन दान को बाएं हाथ के बल्लेबाज ने फिर व्यर्थ कर दिया। बड़े ही आसान कैच के साथ उन्होंने अपना विकेट खोया और पूरी टीम आॅल-आउट होकर सिर्फ 200 रनों पर सिमट गई। भले ही टीम तीसरा एकदिवसीय मुकाबला जीत गई, मगर मध्यक्रम का बार-बार विफल हो जाना चिंता का कारण बन चुका था।

घरेलू मैदान पर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ हुई सीरीज रैना के लिए फाॅर्म में वापसी करने का मौका लेकर आई, मगर जो हुआ वो इसके बिल्कुल विपरीत था। पहले तीन मुकाबलों की बात करें तो वो 3 रन और दो बार बिना खाता खोले ही चले गए। रैना घरेलू मैदान पर गेंदबाजी अटैक संभालने में सक्षम थे लेकिन सीरीज के खत्म होने तक वो तकनीकी तौर पर काफी कमजोर नजर आए। शाॅर्ट पिच गेंदों के साथ उनकी जंग जारी रही और साउथ अफ्रीका के गेंदबाजों ने उनकी इसी कमजोरी का फायदा उठाते हुए उन्हें तीन बार पवैलियन भेजा। चौथे एकदिवसीय मुकाबले में उन्होंने अर्ध-शतक जरूर लगाया मगर टीम में अपनी उपयोगिता साबित करने के लिए ये नाकाफी था। पांचवां मुकाबला हारने के साथ ही टीम इंडिया ने ये पूरी सीरीज बड़े ही शर्मनाक ढंग से गंवाई। 

आत्मविश्वास, फाॅर्म और फिटनेस की कमी से जूझ रहे रैना की स्थिति फैन्स को 2007 की याद दिलाती है। 2005 में उत्तर प्रदेश के इस खिलाड़ी ने क्रिकेट के एकदिवसीय प्रारूप में पदार्पण किया और 2007 विश्व कप के लिए भारत के हुनरमंद खिलाड़ी बनकर उभरे। मगर घुटने में लगी चोट की वजह से वो वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा नहीं बन पाए। बहरहाल, रैना ने एक साल बाद शानदार वापसी करते हुए एशिया कप में दो शतक बनाए। 

लेकिन 29 साल के इस खिलाड़ी के लिए स्थिति अब काफी बदल चुकी है। अगर चयनकर्ता आईपीएल और घरेलू सत्र में उनके आंकड़ों को देखें तो राष्ट्रीय टीम में उन्हें जगह मिल पाना मुश्किल है। एशिया कप टी20 और वर्ल्ड टी20 में उनके खराब परफाॅर्मेंस के बाद आईपीएल 2016 में विराट कोहली के प्रदर्शन ने उनके नाम को पीछे कर दिया। एक वक्त था जब उन्हें आईपीएल का बेहतरीन खिलाड़ी माना जाता था। 

Raina's performances in the Asia Cup T20 and ICC World T20 2016 have not been up to the mark © Getty

इसके बाद ये देखकर बिल्कुल भी हैरानी नहीं हुई कि जिस खिलाड़ी को 2010 में इंडिया के रिजर्व टीम का कप्तान बनाया गया था, उसे जून 2016 में जिंबाब्वे दौरे के लिए टीम में जगह ही नहीं दी गई। दिलीप ट्राॅफी ने चयनकर्ताओं को खुश करने का एक और मौका दिया, जहां उन्होंने इंडिया ग्रीन के कप्तान के तौर पर 52, 35 और 90 रन की पारी खेली।

2007 में रैना को भविष्य के खिलाड़ी के तौर पर देखा जा रहा था लेकिन अब जब उनके 30 साल का पड़ाव पार करने में कुछ ही महीने बाकी हैं तब टीम में उनकी जगह संदिग्ध नजर आ रही है, कुछ ऐसी ही स्थिति 2009 में इरफान पठान के साथ हुई थी। वैसे टीम मैनेजमेंट ने रैना को न्यूजीलैंड सीरीज के आखिरी दो मुकाबलों के लिए अनफिट करार देते हुए, उनका रिप्लेसमेंट लेकर नहीं आए। ये जाहिर करता है कि महेन्द्र सिंह धोनी को अब भी कहीं ना कहीं विश्वास है कि चेन्नई सुपरकिंग्स का उनका पूर्व साथी जबर्दस्त वापसी करेगा। इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली घरेलू सीरीज 2017 में होने वाले चैंपियंस ट्राॅफी से पहले भारत की आखिरी एकदिवसीय सीरीज होगी, ये रैना के ODI करियर के लिए भी आखिरी मौका हो सकता है।

इसकी संभावना ज्यादा नजर आ रही है कि हम जल्द ही इस बाएं हाथ के करिश्माई बल्लेबाज के करियर का अंत देखने वाले हैं, एक समय में जिसकी गिनती बड़े सितारों में हुआ करती थी। कई लोगों को उम्मीद है कि सुरेश रैना अपनी वापसी का रास्ता तैयार करेंगे जैसा उन्होंने 2008 में किया था। सामने यूएई या हांगकांग की नहीं बल्कि इंग्लैंड की टीम होगी। श्रीलंका, पाकिस्तान और बांग्लादेश के खिलाफ लगातार जीत दर्ज करने वाली ये टीम काफी खतरनाक बन चुकी है। बिसात बिछ चुकी है, बस देखना है कि सुरेश रैना को अगर मौका मिलता है तो वो क्या अड़चनों को पार करते हुए वापसी कर पाएंगे? बस इंतजार करिए, अगले दो महीनों में इसका जवाब मिला जाएगा।

Follow us on Facebook here

Stay connected with us on Twitter here

Like and share our Instagram page here

SHOW COMMENTS drop down