user tracker image

10 सदस्यों की एटलेटिको डी कोलकाता ने बनाई फाइनल में जगह

no photo
camera iconcamera icon|

© ISL

10 सदस्यों की एटलेटिको डी कोलकाता ने बनाई फाइनल में जगह

दस सदस्यों के एटलेटिको डी कोलकाता हीरो इंडियन सुपर लीग के फाइनल में पहुंची। मंगलवार को मुंबई के मुंबई फुटबॉल अरीना में मुंबई सिटी एफसी के खिलाफ मुकाबले में कोलकाता विजयी रहा। घरेलू मैदान में पहला मुकाबला 3-2 से जीतने वाले एटलेटिको को फाइनल तक पहुँचने के लिए टीम को एक जीत की ज़रुरत थी।

पहले हाफ में मेहमान टीम ने मैच पर से अपना नियंत्रण खो दिया जब रोबर्ट लाथलामुआना को 42वे मिनट पर दूसरे येलो दिखाए जाने के कारण मैदान छोड़ना पड़ा लेकिन एटलेटिको डी कोलकाता ने अपने अनुभवों का सही इस्तेमाल करते हुए मुंबई सिटी को दूसरे हाल्फ में धुल चटाया।

एटलेटिको डी कोलकाता अब दिल्ली डाइनेमोज और केरला ब्लास्टर्स के बीच होने वाले दूसरे सेमी फाइनल के विजेता से 18 दिसम्बर को कोची में होने वाले फाइनल में भिड़ेगा।

मुंबई सिटी एफसी अपनी इस हार से काफी निराश होगा क्योंकि वह आगे रहते हुए भी जीत हासिल नहीं कर सका। घरेलू टीम ने 17 शॉट्स लगाये, जिनमें से चार बिलकुल लक्ष्य पर थे लेकिन विरोधी टीम के गोलकीपर देबजीत मजुमदार ने उन सभी को रोक लिया। ATK ने 90 मिनट के खेल में सिर्फ एक ही शॉट मारा जो गोल में बदल गया।

मुंबई सिटी के पास शुरुआत में ही बढ़त हासिल करने का अच्छा मौका था लेकिन स्ट्राइकर छठे मिनट पर सुनील छेत्री अनुपस्थित दिखे। लुसियन गोइयन गेंद छेत्री तक पहुँचाने में सफल रहे और छेत्री ने भी ऑफ-साइड की रुकावट को पार करते हुए उस पर नियंत्रण बनाया। लेकिन गोल के लिए मारे गए छेत्री के शॉट को मजुमदार ने छलांग लगाकर रोक लिया।  

पहले हाफ में भी एटलेटिको डी कोलकाता को एक मौका मिला। जावी लारा ने इसकी शुरुआत की। लारा ने अबिनाश रुइदास को बॉल पास किया और लेफ्ट बैक ने एक ख़ूबसूरत सा शॉट लगाया, लेकिन बॉक्स के अन्दर मरे गए इस शॉट को विरोधी टीम के डिफेंडर ने रोक लिया।  

मुकाबले का अहम पड़ाव आया 42वे मिनट पर जब रोबर्ट को दूसरी बार येलो कार्ड दिखाया गया। ATK के डिफेंडर ने माटियास डेफेडेरिको को खेल के दौरान पीछे से पकड़ लिया था जिसके बाद बिना वक़्त गवाए रेफ़री ने उन्हें खेल से बाहर कर दिया।

झड़प के कारण निलंबित हुए कप्तान डिएगो फोर्लेन की कमी मेज़बान टीम में खल रही थी। फोर्लेन का शानदार प्रदर्शन मैदान में नज़र नहीं आया और दूसरे सत्र में मुंबई के पास अधिक खिलाड़ी होने के बावजूद टीम कुछ ख़ास कर नहीं पायी।

दूसरे सत्र में, मुंबई सिटी ने कमी को पूरा करने की कोशिश की लेकिन नाकामयाब रही। 87वे मिनट पर उन्हें एक अच्छा मौका भी मिला जब मुंबई ने लेफ्ट में सोनी नोर्ड के ज़रिये जवाबी हमला किया। हाईटियन मिडफील्डर ने गोइयन तक गेंद पहुंचाई लेकिन वह उसके साथ कुछ कर नहीं पाए। मुंबई को इसके बाद भी एक मौका मिला, लेकिन गेंद जाकिचंद सिंह के पास थी जिन्होंने एक बेतुका शॉट लगाया और टीम को निराश किया।   

Follow us on Facebook here

Stay connected with us on Twitter here

Like and share our Instagram page here

SHOW COMMENTS drop down