user tracker image

यूरोपियाई फुटबॉल में न खेलने से लिवरपूल को फायदा, जर्गेन क्लोप ने किया स्वीकार

no photo
camera iconcamera icon|

© Getty Images

यूरोपियाई फुटबॉल में न खेलने से लिवरपूल को फायदा, जर्गेन क्लोप ने किया स्वीकार

जर्गेन क्लोप ने माना है कि इस सत्र में यूरोपा लीग में न शामिल होने से लिवरपूल को अभ्यास के लिए समय मिल गया है। आलोचकों की बातों की परवाह न करते हुए क्लोप ने बुधवार को मिडिल्सब्रो के खिलाफ हुए मैच में लोरिस कैरियस को बिठाने के अपने फैसले का समर्थन किया। मुकाबले में लिवरपूल 3-0 से जीता था।

पिछले सत्र के यूरोपा लीग के फाइनल में लिवरपूल पूर्व विजेता सेविला से 1-3 से हारा था और 2016-17 के सत्र के लिए टीम किसी भी यूरोपियाई प्रतियोगिता में जगह बनाने से चूकि है।

"इसमें ज़मीन आसमान का अंतर है," क्लोप ने रिपोर्टरों से लिवरपूल और मिडिलब्रो के मुकाबले के बाद कहा।

"वैसे तो हम यूरोप में खेलना चाहते थे, लेकिन यह हमारे लिए फायेदेमंद भी है। वह दो अलग अलग कार्य हैं जब आप पूरे सत्र में अभ्यास कर सकते हैं या फिर पिछले सत्र की तरह इस सत्र में भी एक के बाद एक मुकाबले खेलते हैं। दूसरे कार्य के लिए आपको पहला कार्य पूरा करना होता है।"

डोर्टमंड के पूर्व प्रबंधक ने कहा कि प्रीमियर लीग देखने और उसका प्रबंधन करने में बहुत अंतर है।

"यकीनन, जर्मनी में भी हम प्रीमियर लीग देखते थे और इसे लेकर हमारी अपनी धारणा थी," उन्होंने कहा।

"लेकिन जब आप यहाँ काम करने लगते हैं, तो यकीनन मामला बदल जाता है। विंटर ब्रेक को ही ले लीजिये - विंटर ब्रेक से पहले जर्मनी के आखिरी मुकाबले और ब्रेक के बाद के पहले मैच के बीच, लिवरपूल को 10 मैच खेलने होंगे।

"मुझे विंटर ब्रेक नहीं चाहिए, सब सही चल रहा है। लेकिन इससे काफी फर्क पड़ता है।"

क्लोप ने कहा कि प्रीमियर लीग के व्यस्त सारणी से खिलाड़ियों को आराम नहीं मिल पाटा और प्रबंधकों के लिए हर मैच के लिए सर्वश्रेष्ठ 11 खिलाड़ी चुनना मुश्किल हो जाता है।

"लीग के माहौल और विरोधियों की ताक़त से जूझने के लिए हफ्ते भर के एक मैच के बाद शनिवार के मुकाबले के लिए चार खिलाड़ियों को विश्राम देना जोखिम भरा हो जाता है। ज़ाहिर है, आप कोई मैच हारना तो नहीं चाहते," उन्होंने कहा।

बुधवार को साइमन मिग्नोलेट ने कीपर कैरियस की जगह ली, जिन्होंने हाल ही में वेस्ट हैम और बोर्नमाउथ के खिलाफ हुए मुकाबलों में अपनी गलतियों के कारण आलोचना झेलनी पड़ी है। क्लोप ने कहा कि वह आलोचकों की बातों से परेशान नहीं होते।

"मैं जनता के दबाव में नहीं आता, मेरी दिलचस्पी उस खिलाड़ी में है," क्लोप ने कहा। "मैं उसे ऐसी परिस्थिति में नहीं डाल सकता, इससे उनका आत्मविश्वास टूटेगा।

"कैरियस में ऐसी बहुत सी खूबियाँ हैं जो दूसरे कीपर अपने अन्दर लाना चाहते हैं। हम खिलाड़ियों के विकास पर जोर देते हैं - हम सिर्फ लोगों के सामने यह साबित नहीं करना चाहते कि वह अच्छे खिलाड़ी हैं।

"मैं उन्हें अच्छी तरह से जानता हूँ और पिछले दो मैचों में उन्होंने जो प्रदर्शन किया है, उससे वे कई गुना अच्छे हैं। यह लिवरपूल के लम्बे कार्यकाल का एक छोटा का पड़ाव है।"

Follow us on Facebook here

Stay connected with us on Twitter here

Like and share our Instagram page here

SHOW COMMENTS drop down