user tracker image

क्रिस्टोफर रुर को ओलंपिक्स और विश्व कप में कड़ी भारतीय चुनौती की उम्मीद

no photo
camera iconcamera icon|

© Getty Images

क्रिस्टोफर रुर को ओलंपिक्स और विश्व कप में कड़ी भारतीय चुनौती की उम्मीद

क्रिस्टोफर रुर के अनुसार, पिछले कुछ सालों के प्रदर्शन को देखते हुए, भारत सभी प्रमुख प्रतियोगिताओं में एक कड़ी चुनौती बनकर सामने आ सकता है। रांची रेज़ के कप्तान, ऐशले जैकसन ने भी भारतीय हॉकी पर अपनी राय दी और इसके साथ ही उन्होंने एमएस धोनी के लिए भी कुछ ख़ास शब्द कहे।

जर्मन अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी का मानना है कि अर्जेंटीना के साथ, हॉकी जगत में सबसे ज्यादा प्रगति हासिल करने वाला देश भारत है। 23 वर्षीय खिलाड़ी ने कहा कि भारत ओलिंपिक पदक जीतने योग्य है और चूंकि आने वाला विश्व कप भारत में आयोजित होगा, तो टीम इस विश्व स्तरीय प्रतियोगिता में भी विजयी हो सकती है।

"मेरे ख्याल से भारत और (2016 के ओलिंपिक विजेता) अर्जेंटीना ने बाकी के हॉकी खेलने वाले राष्ट्रों की तुलना में, पिछले 2-3 सालों में काफी प्रगति की है। मुझे भारतीय खिलाड़ियों के खेलने का अंदाज़ पसंद है और मुझे लगता है कि 2020 के ओलिंपिक में वे एक कड़ी चुनौती साबित होंगे," IANS की रिपोर्ट के अनुसार रुर ने कहा।

"2018 के विश्व कप में भी भारत विजयी हो सकता है - खासकर इसलिए, क्योंकि वह विश्व कप भारत में खेला जायेगा और भारतीय प्रशंसक बेहद कमाल के हैं, जो अपनी टीम को काफी प्रोत्साहित करते हैं और जीत के लिए यह काफी अहम होता है।"

रुर उस जर्मन टीम का हिस्सा हैं जो इस साल वर्ल्ड हॉकी लीग के सेमी फाइनल में भाग लेगी। पिछली बार, वह बूएनोस एरेस में सर्वाधिक स्कोर करने वाले खिलाड़ी थे और उनके योगदान से टीम फाइनल तक पहुंची थी। फाइनल में भी उन्होंने तीन और गोल अपने नाम किये थे। HIL में खेलने के पीछे, युवा खिलाड़ी का मुख्य उद्देश्य, भारतीय प्रशंसकों के सामने खेलना था - समर्थकों की इतनी बड़ी संख्या, यूरोपियाई हॉकी में नहीं नज़र आती है।  

"HIL खेलने के लिए मैं बहुत उत्सुक हूँ। दिल्ली में जूनियर वर्ल्ड कप खेलने के बाद, यह मेरा सपना था कि मैं यहां खेल देखने आने वाले समर्थकों की भारी भीड़ के सामने खेलूँ। जब हम जर्मनी या यूरोप में खेलते हैं तो वहां खेल देखने इतने लोग नहीं आते," रुर ने कहा।

ऐशले जैक्सन ने भी अपने समदेशी खिलाड़ी की बातों का समर्थन करते हुए कहा कि हॉकी में भारत की प्रगति न सिर्फ सीनियर टीम के प्रदर्शन में, बल्कि जूनियर टीम के खेलने की शैली में भी नज़र आती है।

मेरे ख्याल से, सीनियर टीम के प्रदर्शन में जहां पिछले चार सालों में इतना सुधार आया है वहीं कोच हरेन्द्र सिंह के नेतृत्व में, जूनियर टीम भी विश्व विजेता बनती जा रही है, भारत हॉकी के क्षेत्र में एक बार फिर सर्वोच्च स्थान पर पहुँच रहा है," जैक्सन ने PTI से कहा।

दो बार HIL में जीतने वाली रांची की टीम की कप्तानी करने वाले जैक्सन आने वाले मुकाबलों के लिए सकारात्मक दिखे।

"मेरे ख्याल से हमने अब तक जो कुछ उपलब्ध किया है, हमारी उम्मीदें हमेशा से ही, उससे ज्यादा रही है, पिछले साल भी, लीग में हमारी स्थिति काफी अच्छी थी। आठ अंकों के साथ हम सर्वोच्च स्थान पर थे। लेकिन सेमी फाइनल में हम हार गए," 2007 में ग्रेट ब्रिटेन की हॉकी टीम से अपने कार्यकाल की शुरुआत करने वाले, 29 वर्षीय जैक्सन ने कहा।

UK के रहने वाले जैक्सन क्रिकेट प्रशंसक भी हैं और उन्होंने भारतीय विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी की तारीफ में भी कुछ शब्द कहे - और उन्हें खेल का प्रमुख चेहरा करार दिया।

"एमएस धोनी आधुनिक खेल जगत के प्रमुख चेहरे हैं, जिसे हम क्रिकेट का पहला आधुनिक युग भी कहते हैं, शॉट मारने से लेकर जीत तक पहुँचने की कला में, उनके खेल में उन किताबी तकनीकों का उल्लेख कहीं नहीं होता, जिन्हें अक्सर सिखाया जाता है," जैक्सन ने कहा।

Follow us on Facebook here

Stay connected with us on Twitter here

Like and share our Instagram page here

SHOW COMMENTS drop down