user tracker image

कबड्डी विश्व कप में अब तक का सफरः भारत शुरूआती हार से उबरा, वहीं कोरिया के प्रदर्शन ने सबको चौंकाया

no photo
camera iconcamera icon|

कबड्डी विश्व कप में अब तक का सफरः भारत शुरूआती हार से उबरा, वहीं कोरिया के प्रदर्शन ने सबको चौंकाया

नौ साल के लंबे अंतराल के बाद आयोजित हो रहे कबड्डी विश्व कप के तीसरे संस्करण में सबसे ज्यादा उम्मीदें भारत पर है। मगर इस मेजबान टीम का आगाज उस वक्त लड़खड़ा गया जब इसने 7 अक्टूबर को साउथ कोरिया के खिलाफ अपना उद्घाटन मुकाबला खेला।

ग्रुप ए

दो बार की विश्व-विजेता टीम अपने पहले मैच में दक्षिण कोरिया के खिलाफ अनुप कुमार और राहुल चौधरी द्वारा दिलाई गई बढ़त को आगे तक बनाए रखने में नाकामयाब रही। जेंग कुन ली की अगुवाई में कोरियाई टीम ने जबर्दस्त वापसी करते हुए कबड्डी विश्व कप का उद्घाटन मैच 34-32 से अपने नाम किया।

टूर्नामेंट में वापसी करने के लिए इस हार से उबरना बेहद जरूरी था और भारतीय टीम ने ये निराशा बेहद शानदार तरीके से दूर की। भारतीय टीम ने आॅस्ट्रेलिया को 54-20 के विशाल अंतर से हराते हुए धमाकेदार वापसी की और इस खेल में अपना दबदबा भी साबित कर दिया। अजय ठाकुर और मंजीत चिल्लर भारत के स्टार खिलाड़ी रहे।

भारतीय टीम ने बांग्लादेश के खिलाफ 57-20 से मुकाबला अपने नाम करते हुए टूर्नामेंट की दूसरी जीत हासिल की। लगातार 5 रैड में अंक हासिल करने के साथ ही अजय ठाकुर (11) और प्रदीप नरवाल (8) भारतीय टीम की इस जीत के हीरो बने।

पूल ए में साउथ कोरिया, इंग्लैंड, आॅस्ट्रेलिया, अर्जेंटीना और बांग्लादेश के साथ शामिल भारत सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली टीम है। भारतीय टीम उम्मीदों को पूरा करते हुए इस वक्त ग्रुप में 11 अंकों के साथ सबसे उपर है। भारत से एक मैच कम खेलने वाली दक्षिण कोरिया की टीम बेहद कम अंक के फासले के साथ दूसरे नंबर पर मौजूद है।

कोरियाई टीम ने अपने पहले दो लीग मुकाबलों में भारत और अर्जेंटीना को हराया है। मेजबान टीम के खिलाफ अपना शानदार प्रदर्शन दिखाने के बाद, कोरियाई टीम ने अर्जेंटीना को भी 68-42 से हराकर पूल में अपनी स्थिति मजबूत की है। टूर्नामेंट में अभी उनके पास तीन मुकाबले बचे हैं, यदि कोई और चमत्कार नहीं होता तो यकीनन ये टीम पूल में सबसे उपरी पायदान पर रहकर लीग राउंड का अंत करेंगी।

इंग्लैंड और बांग्लादेश दोनों ही टीमें एक जीत और एक हार के साथ क्रमशः तीसरे और चौथे पायदान पर हैं। दोनों टीमों के पास 5-5 अंक है लेकिन रैड प्वाइंट में अंतर के कारण उनका स्थान अलग-अलग है।

आॅस्ट्रेलिया अर्जेंटीना के खिलाफ किसी तरह जीत हासिल कर पाई है लेकिन भारत और इंग्लैंड से मिली हार के कारण उनका अगले दौर में पहुंच पाना लगभग असंभव-सा है। एकमात्र जीत से मिले पांच अंकों के साथ कंगारू टीम अंक तालिका में नीचे से दूसरे स्थान पर है।

अर्जेंटीना के सफर का आगाज अच्छा नहीं रहा। उसे शुरूआती मुकाबले कोरिया और आॅस्ट्रेलिया के हाथों गंवाने पड़े। भारत, बांग्लादेश और इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले मुकाबलों में उनके लिए जीत हासिल करना एक सपने जैसा नजर आता है। इस स्थिति को देखकर लगता है कि फुटबाॅल का दीवाना ये देश अंक तालिका में आखिरी पायदान पर रहेगा।

ग्रुप बी

ग्रुप ए की तरह ग्रुप बी में भी पहले से ही लिखी कहानी की तरह घटनाएं घट रही हैं और वो भी बिना किसी उलटफेर के। अब तक सिर्फ केन्या ने ही दो बार की उप-विजेता टीम रही ईरान के खेमे में डर पैदा किया है। ऐसा तब हुआ जब केन्या की टीम ईरान के अंकों के काफी नजदीक पहुंच गई थी लेकिन वह मैच ईरान ने ही 33-28 से जीता। तीन मुकाबलों में तीन जीत के साथ ईरान ग्रुप बी के टाॅप पर है। जापान और कोरिया भी एक जीत और एक हार के साथ अगले दो पायदान पर काबिज है। इन दोनों टीमों के खाते में 6-6 अंक है। वहीं अमेरिका और पोलैंड को अभी भी टूर्नामेंट में अपनी पहली जीत की तलाश है।

Follow us on Facebook here

Stay connected with us on Twitter here

Like and share our Instagram page here

SHOW COMMENTS drop down