user tracker image

मैं 20 ग्रैंड स्लैम जीतना चाहता हूँ: लिएंडर पेस

no photo
camera iconcamera icon|

© Getty Images

मैं 20 ग्रैंड स्लैम जीतना चाहता हूँ: लिएंडर पेस

दिग्गज टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने कहा है कि निवृत्ति तक वह 20 ग्रैंड स्लैम जीतना चाहते हैं। 43 साल के खिलाड़ी ने कहा कि वह आने वाले वक़्त में आंद्रे बेगिमैन के साथ युगल नहीं खेलेंगे बल्कि वह रामकुमार रामनाथन और साकेत मायनेनी जैसे भारतीय युवा खिलाड़ी को अपना साथी बनायेंगे।

"मैंने इस साल अपने सभी लक्ष्यों को हासिल की है। यह एक मुश्किल भरा साल था और इसमें भी अपने प्रयास से मैं बेहद खुश हूँ। अब, मैं दो हफ़्तों की छुट्टी लेना चाहता हूँ और अपनी बेटी तथा पिता के साथ समय बिताना चाहता हूँ। मेरा लक्ष्य 20 ग्रैंड स्लैम का है। जब आप अपने लक्ष्य पूरा कर लेते हैं और आपके पास कुछ बाकी नहीं रहता तो आप नए लक्ष्य तय कर लेते हैं," पेस ने बुधवार को पुणे चैलेंजर में रामकुमार रामनाथन के साथ जीतने के बाद PTI से कहा।

उन्होंने और रामकुमार ने सिधार्थ रावत और अन्वित बेंद्रे को 6-3 6-4 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है।

पेस ने कहा कि दो ATP 250 इवेंट (सेंट पीटर्सबर्ग और विंस्टन-सालेम) में रनरअप रहने के बाद वह अपने पिछले युगल साथी आंद्रे बेगिमैन के साथ अब नहीं खेलेंगे।

"मैं अगले साल के लिए अपने साथी तलाश रहा हूँ। 20 एक सही आंकड़ा है। इस साल काफी उधेड़बुन की स्थिति रही, अगर आप टीमों को देखें तो किसी भी एक टीम का दबदबा नहीं रहा है। काफी ऊपर नीचे हुआ है," उन्होंने कहा।

इस साल के पहले भाग में, पेस ने, फ्रेंच ओपन के मिश्रित ग्रैंड स्लैम में, स्विस खिलाड़ी मार्टिना हिंगिस के साथ खेलकर, जीत हासिल की और अपने द्वारा जीते गए ग्रैंड स्लैम की गिनती 18 पहुँचाया। लेकिन 6 ओलंपिक्स खेल चुके इस अनुभवी खिलाड़ी को अब ऐसा लगता है कि उनका लक्ष्य युवाओं की मदद करना और ओलंपिक्स पदक जीतने के लिए तैयार करना है।

"मैं टेनिस को लेकर काफी महत्वकांक्षी और समर्पित हूँ। यह पहली बार है जब मैं यहाँ खेल रहा हूँ। इस कोर्ट की गति बेहद अच्छी है। मैं जहाँ भी खेलता हूँ मेरा मकसद लोगों का मनोरंजन करना और युवाओं को प्रोत्साहित करना है। मैं इस बात से सबको अवगत कराना चाहता हूँ कि कैसे टेनिस एक बेहतरीन पेशा बन सकता है। मैं टेनिस के प्रति जूनून पैदा करना चाहता हूँ, और अगर हम चार सालों में टेनिस खेलने वाला एक समूह तैयार कर लें, तो शायद अगले 10 सालों में कोई भारत के लिए ओलिंपिक पदक भी जीतकर ला सकता है," उन्होंने कहा।  

साथी चुनने को एक दिमागी काम बताते हुए उन्होंने कहा कि वह रामकुमार रामनाथन के साथ अपनी सांझेदारी बरक़रार रखना चाहेंगे।

मैं कोई भी दूसरा साथी चुन सकता था जिसके साथ मैं दौरों पर खेलता लेकिन राम को समर्थन देना और उनके साथ खेलना अच्छा लगता है। मैंने साकेत के साथ भी डेविस कप खेला है और वह भी बड़ा मजेदार रहा था और बहुत अच्छा होगा अगर उनके साथ आगे भी खेलने का मौका मिले," उन्होंने कहा।

"राम, मेरे लिए, एक ज़ाहिर सा चुनाव हैं क्योंकि मुझे उनके खेल की शैली पसंद है और बात सिर्फ यही नहीं है कि मैं उन्हें जो कहता हूँ उसे वह सुनते हैं कभी कभी ऐसी परिस्थितियां भी होती हैं, जिसमें वह मुझे एक निर्धारित शैली का अनुसरण करने को कहते हैं और इसी वजह से हमारी सांझेदारी अच्छी रही," उन्होंने कहा 

Follow us on Facebook here

Stay connected with us on Twitter here

Like and share our Instagram page here

SHOW COMMENTS drop down