user tracker image

गीता फोगट के पूर्व कोच आमिर खान की फिल्म दंगल से नाराज़

no photo
camera iconcamera icon|

© Geeta Phogat Facebook

गीता फोगट के पूर्व कोच आमिर खान की फिल्म दंगल से नाराज़

हाल ही में रिलीज़ हुई दंगल के ज़रिए गीता फोगट की जिंदगी को पर्दे पर उतारा गया। गीता के पूर्व कोच पीआर सोंधी फिल्म में उनकी छवि को नकारात्मक दिखाने की वजह से नाराज़ हो गए हैं। बहरहाल, फिल्म के निर्देशक नितेश तिवारी ने ये कहकर बचाव किया कि फिल्म में ड्रामा बढ़ाने के लिए ऐसा किया गया।

आमिर खान अभिनित फिल्म दंगल ने रेसलिंग कोच महावीर फोगट और उनकी बेटियों की जिंदगी को शानदार ढंग से दिखाया और इस फिल्म ने आर्थिक कामयाबी भी हासिल की। लेकिन बुधवार को, भारतीय रेसलिंग टीम के पूर्व कोच पीआर सोंधी ने खुलासा किया कि वो ये जानकर काफी दुखी हुए कि फिल्म में उन्हें विलन के तौर पर दिखाया गया है।

फिल्म के क्लाइमेक्स में दिखाया गया कि बदले की भावना के चलते कोच ने महावीर फोगट को उस वक़्त कमरे में बंद कर दिया जब बबीता आॅस्ट्रेलियाई खिलाड़ी से गोल्ड मेडल के लिए लड़ रही थी ताकि वो स्टैंड से अपनी बेटी का मार्गदर्शन ना कर सकें।

भारतीय महिला टीम को 2009 से 2014 तक कोचिंग देने वाले पीआर सोंधी ने बुधवार को टीओआई से कहा, ‘‘मैंने फिल्म नहीं देखी है लेकिन लोगों ने मुझे बताया कि किस तरह से मेरे किरदार को दिखाया गया है। मुझे यकीन है कि फिल्म की शुरूआत में ये बताया गया होगा कि इस फिल्म के कई हिस्से काप्लनिक है लेकिन मैं ये कहूंगा कि सिर्फ मेरे लिए नहीं बल्कि ये पूरे कोचिंग समुदाय के लिए शर्म की बात है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘अगर मुझे ये अनुचित लगा तो मैं इसकी चर्चा स्पोर्ट्स अथोरटी आॅफ इंडिया और रेसलिंग फेडरेशन आॅफ इंडिया से करूंगा, जिन्होंने मुझे नियुक्त किया था। मैं आमिर के विरोध में नहीं हूं। फिल्म बनने के दौरान मैं उनसे लुधियाना में मिला था और मुझे यकीन है जब उन्हें हकीकत का पता चलेगा तब उन्हें भी बुरा लगेगा।’’

सोंधी बीजिंग ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाले खिलाड़ी सुशील कुमार को भी कोचिंग दे चुके हैं। उन्होंने हैरानी जताते हुए कहा कि फिल्म में जो कुछ भी दिखाया गया हकीकत में सबकुछ उलट है।

सोंधी ने बताया, ‘‘महावीर और उनकी बेटियों से मेरे अच्छे ताल्लुकात हैं। उनके उपर किताब लिखने वाले पत्रकारों ने भी मुझे सकारात्मक तौर पर शामिल किया। एक बार मैंने गीता की मदद तब की थी जब अंतर्राष्ट्रीय इवेंट से कुछ मिनट पहले वो अपना पासपोर्ट खो चुकी थी। महावीर ने कभी भी मेरी कोचिंग के दौरान दखल नहीं दिया।’’

मंगलवार की रात एक टीवी चैनल पर बात करते हुए फिल्म के डायरेक्टर नितेश तिवारी ने फिल्म के विवादास्पद अंत के बारे में बचाव किया। उन्होंने कहा, ‘‘हम इसे नाटकीय बनाना चाहते थे। वरना सेमीफाइनल और क्वार्टरफाइनल से फाइनल अलग कैसे नज़र आता।’’

Follow us on Facebook here

Stay connected with us on Twitter here

Like and share our Instagram page here

SHOW COMMENTS drop down